मिर्जापुर में एक खूंखार बंदर ने मचाया आतंक, कई बच्चों को काट खाया

Subscribe to Oneindia Hindi

मिर्जापुर। यूपी के मिर्जापुर क्षेत्र में पिछले दो माह से बच्चों को काटकर जख्मी करने वाला खूंखार बंदर आखिरकार पकड़ा गया। कानपुर चिड़ियाघर से आये विशेषज्ञों की टीम ने दो दिन की मशक्कत से किसी तरह बंदर को पिंजरे में कैद करने में कामयाबी हासिल की। पहले दिन बंदर ने टीम को खूब छकाया। इंजेक्शन लगने के बाद भी वह बेहोश नहीं हुआ। दूसरे दिन दो इंजेक्‍शन लगने के बाद वह बेहोश हुआ। इसके बाद टीम उसे पकड़कर पिंजरे में डालकर कानपुर चिड़ियाघर ले गयी। Read Also: मिर्जापुर: जेल में औचक निरीक्षण के दौरान मिला लाइटर और चिलम

25 से अधिक बच्चों को काट खाया

25 से अधिक बच्चों को काट खाया

शहर और कटरा कोतवाली क्षेत्र में दो माह से हमलावर हो चुका बंदर पूरे इलाके में आतंक का पर्याय बन चुका था। बंदर सिर्फ छोटे बच्चों को निशाना बना रहा था। लगभग 25 से अधिक बच्चों के चेहरे को काटकर जख्मी कर चुका था। लोग बच्चों को घर से बाहर निकलने नहीं दे रहे थे। बंदर का मनोबल इस कदर बढ़ गया था कि वह सड़क और स्कूल में भीड़ होने के बावजूद सात वर्ष से कम उम्र की बालिकाओं के गाल को नोंच कर भाग जाता था । उसके हमले की शिकार बनीं अधिकांश बालिकाओं को बचपन में प्लास्टिक सर्जरी करानी पड़ी।

पूरे प्रदेश में सिर्फ एक है बेहोश करनेवाली बंदूक

पूरे प्रदेश में सिर्फ एक है बेहोश करनेवाली बंदूक

नगरवासियों ने बंदर पकडने की मांग जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक और वन विभाग से की। इसके लिए सड़क जाम किया, तब जाकर वन विभाग ने कानपुर चिड़ियाघर को पत्र लिखा। वन विभाग के रेंजर मनीष सिंह के मुताबिक, पूरे प्रदेश में बेहोश करने की बंदूक एक ही है। मेरठ से वह बंदूक आने पर शनिवार से अभियान चलाया गया। कानपुर चिड़ियाघर से आयी विशेष टीम बेहोश करनेवाली गन लेकर शनिवार से उसके पीछे लगी थी।

कानपुर चिड़ियाघर की शोभा बनेगा बंदर

कानपुर चिड़ियाघर की शोभा बनेगा बंदर

टीम को चकमा देने वाले बंदर पर रविवार की दोपहर को दो फायर हुआ। एक उसके सिर पर लगा तो दूसरा पेट के पास लगा । दवा का असर होते ही वह बेहोश हुआ इसके बाद टीम ने उसे बोरे में कैद कर पिंजरे में डाल दिया। जिले में आतंक मचाने वाला बंदर, कानपुर के चिड़ियाघर की शोभा बनेगा । टीम लीडर वी० के० टार्जन ने बताया कि अब यह बंदर कानपुर चिड़ियाघर को सौंपा जायेगा।

बंदर को दिया गया खास नाम

बंदर को दिया गया खास नाम

पांच सदस्यीय टीम के लीडर वी० के० टार्जन ने बताया कि पकड़ा गया बंदर कानपुर चिड़ियाघर को सौंपा जाएगा, जिसे जू में आने वाले दर्शक देख सकेंगे । इसका परिचय लिखा जाएगा - मिर्जापुर का आतंकी बंदर। अभियान के दौरान टीम में डॉ० मोहम्मद नासिर, समरजीत यादव, विनोद, डिप्टी रेंजर, कानपुर चिड़ियाघर और अन्य सहयोगी शामिल थे । पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बंदर के पकड़े जाने पर विशेष अभियान में शामिल टीम को बधाई दी। Read Also:सड़क पर रफ्तार भरते है 'मोदी' 'दादा', दिखता है 'यादव' 'राज'

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Mirzapur, people was living in a terror of monkey who was targeting children and injured many of them by biting. Forest department officials caught the monkey after two days of hard work.
Please Wait while comments are loading...