अनोखा शनि मंदिर: यहां भगवान रखते हैं पीएम मोदी और आडवाणी पर नजर

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

कानपुर। देश में फैले भ्रष्टाचार और भ्रष्टाचारियों के खात्मे के लिये कानपुर में भगवान शनिदेव का मंदिर स्थापित किया गया है। इस मंदिर का नाम भ्रस्ट तंत्र विनाशक शनिदेव मंदिर रखा गया है। मंदिर के अंदर कई नेताओं मंत्रियो और प्रशासनिक अधिकारियो की फोटो लगाई गयी है। शनिदेव की दृष्टि लगातार इन फोटो पर रहती है। जिसने अच्छा काम किया उसको शनिदेव कुछ नहीं कहते लेकिन जिसने कोई गलत काम किया उसपर उनकी दृस्टि टेढ़ी हो जाती है।

दैवीय शक्ति ही भारत से भ्रष्टाचार मिटा सकती है

दैवीय शक्ति ही भारत से भ्रष्टाचार मिटा सकती है

कानपुर महानगर के कल्याणपुर इलाके में बना यह शनि मंदिर अपने आप में अनोखा है। मंदिर की दीवारों पर कई राजनेताओ और प्रशासनिक अधिकारियो की फोटो लगी है। शनि भगवान तय करते है कि कौन काम कर रहा है और भ्रष्टाचार से दूर है उसपर वो दया दृस्टि बनाये रखते है और जिसने भ्रस्टाचार किया उसपर उनकी दृस्टि टेढ़ी हो जाती है जिससे उसका विनाश हो जाता है। इस मंदिर के अंदर शनि भगवान की तीन मूर्तियां है तीनों का मुख अलग-अलग है। शनि भगवान की दृष्टि सीधे मंदिर के अंदर लगी फोटो पर पड़ती है। इस तरह के मंदिर की स्थापना के पीछे संस्थापक का कहना है कि भारत में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है, अब इसे केवल दैवीय शक्तियां ही दूर कर सकती है।

सुप्रीम कोर्ट के जजों की भी लगी है फोटो

सुप्रीम कोर्ट के जजों की भी लगी है फोटो

मंदिर में कई फोटो ऐसी लगाई गयी है जोकि न्याय पालिका से सम्बंधित है। इस पर मंदिर के संस्थापक रौबी शर्मा का कहना है की न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका तीनो पॉवर में है। जो पावरफुल नेता है सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के जजों की फोटो लगाई गयी है और शनिदेव से प्रार्थना की है कि जो जनता के हित में काम करे उसको उन्नति दे और जो जनता का अहित करे भ्रष्टाचार करे उसका पतन करें। सबका भविष्य शनिदेव पर छोड़ दिया गया है की अब वो किसका पतन करते है और किसको वो आगे बढ़ाते है।

ब्रहाजी की सृष्टि को विध्वंश कर दूंगा

ब्रहाजी की सृष्टि को विध्वंश कर दूंगा

मंदिर के अंदर शनि भगवान की त्रिमूर्ति है हर मूर्ति की दृस्टि अलग अलग लगी फोटो पर पड़ रही है। रौबी शर्मा का कहना है की शनिदेव अपने काम पर लगे है। तीनों मूर्तियों के अलग-अलग काम है। शनिदेव की एक मूर्ति की दृस्टि सीधे जजों पर पड़ रही है दूसरी मूर्ति की दृस्टि विधायकों पर है और तीसरी मूर्ति की दृस्टि सीधे ब्रह्मा जी पर है। ब्रह्मा जी की तरफ शनिदेव की दृस्टि पड़ने के पीछे रौबी का कहना है की इससे ब्रह्मा पर दबाव पड़ रहा है कि आप अपनी सृष्टि को सुधारो नहीं तो तुम्हारी पूरी सृष्टि को विध्वंश कर दूंगा जिसके बाद नई सृष्टि बने।

स्थापना के समय से मंदिर में लगी है पीएम मोदी की फोटो

जब मंदिर की स्थापना की गयी थी तब नरेन्द्र मोदी और आडवाणी की फोटो लगाई गई थी जोकि अभी तक लगी है। जब नरेंद्र मोदी की फोटो लगाई गयी थी उस समय नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री थे उसके बाद अब देश के प्रधानमंत्री हो गए। इस पर रौबी का कहना है की नरेंद्र मोदी पर शनिदेव की दृस्टि सीधी पड़ी उनको उन्नति मिली और वो प्रधानमंत्री बन गए। बाकी नेता जैसे सोनिया गांधी राहुल गांधी चिदंबरम मायावती मुलायम सिंह अखिलेश सब साफ़ हो गए। राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की रेस में बीजेपी के वरिष्ठ नेता अडवाणी भी थे लेकिन उनकी जगह रामनाथ कोविंद को को बनाया गया। मंदिर में अडवाणी की भी फोटो लगी है शनिदेव की दृस्टि उनपर पड़ी और वो राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार की रेस से बाहर हो गए।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Shani temple has been established in Kanpur for the eradication of corruption from the country
Please Wait while comments are loading...