सपा में छिड़ी जंग सुलझाने के लिए आज अंतिम दांव चलेंगे मुलायम, बुलाई पार्टी के संसदीय बोर्ड की बैठक

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। शिवपाल यादव के इस्तीफे से बढ़ी समाजवादी पार्टी की अंदरूनी कलह को सुलझाने के लिए पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने शुक्रवार को पार्टी के संसदीय बोर्ड की बैठक बुलाई है। पार्टी में मचे घमासान को सुलझाने के लिए यह आखिरी कोशिश मानी जा रही है।

Mulayam Singh Yadav

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से दो करीबी मंत्रियों को हटाए जाने और अपने तीन अहम विभाग छीने जाने से नाराज शिवपाल यादव ने पहले मुलायम सिंह यादव से मिलकर आपत्ति जताई और बाद में गुरुवार देररात पार्टी और प्रदेश सरकार के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। शिवपाल के इस्तीफे से पार्टी में दो फाड़ होने की आशंका है।

पढ़ें: शिवपाल यादव के सपा से 'तलाक' के पीछे हैं ये 7 वजहें

अखिलेश ने बताया था सरकार की लड़ाई
अखिलेश यादव ने बुधवार को लखनऊ में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि यह घर की लड़ाई नहीं है, यह सरकार की लड़ाई है। उन्होंने यह बयान पार्टी के उस फैसले के बाद दिया है जिसमें उन्हें सपा के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाकर यह जिम्मेदारी शिवपाल यादव को सौंप दी गई।

पढ़ें: 15 मिनट की बातचीत में चाचा शिवपाल से क्या बोले अखिलेश यादव?

विवाद सुलझाने लखनऊ पहुंचे मुलायम
पार्टी में छिड़े विवाद को सुलझाने के लिए सपा मुखिया दिल्ली से लखनऊ पहुंचे हैं। उन्होंने गुरुवार को भी बेटे अखिलेश यादव और भाई शिवपाल यादव के बीच सुलह कराने की कोशिश की थी, लेकिन बात बनी नहीं। शिवपाल ने मुलायम सिंह से मुलाकात की और उसके बाद अखिलेश यादव से भी मिले। अखिलेश से करीब 15 मिनट की मुलाकात के बाद शिवपाल ने अपना इस्तीफा उन्हें भेज दिया। हालांकि मुख्यमंत्री ने इस्तीफा नामंजूर कर दिया है।

पढ़ें: शिवपाल यादव ने सपा और यूपी सरकार के सभी पदों से दिया इस्तीफा

बैठक में हो सकता है फैसला
पार्टी के संसदीय बोर्ड की बैठक में दोनों नेताओं के बीच छिड़े विवाद को सुलझाने की अंतिम कोशिश होगी। शिवपाल यादव की नाराजगी इस बात से भी जाहिर हो रही है कि उनके साथ उनके बेटे और पत्नी ने भी सरकार के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Samajwadi Party parliamentary board meeting called to end crisis between akhilesh and shivpal.
Please Wait while comments are loading...