योगीराज: वोट न देने पर ग्राम प्रधान ने एसडीएम संग रची ऐसी साजिश कि अब किसान मांग रहा है मौत

कन्हैयालाल ने गेहूं की फसल तैयार की और जरूरत के मुताबिक लोगों से इसके लिए पैसा भी उधार लिया लेकिन जब वो फसल काटने पहुंचा तो स्थानीय पुलिस उसे थाने ले आई, तब पता चला कि फसल तो पहले ही नीलाम हो चुकी है।

Subscribe to Oneindia Hindi

हरदोई। 'सबका साथ सबका विकास' पर चलने वाली भारतीय जनता पार्टी का असर खोखला होता दिख रहा है। मुख्यमंत्री योगी के आदेशों का खुलेआम अधिकारी हनन कर रहे हैं, अधिकारियों को अपनी इन हरकतों से कोई डर नहीं दिख रहा है। ऐसा ही एक मामला सामने में आया जहां एक दलित परिवार ने खेती कर गेहूं की फसल खड़ी की और जब उसे काटने की बारी आई तो उन्हें पता चला कि उनकी फसल तो एसडीएम के आदेश पर नीलाम हो चुकी है। ऐसे में पूरा परिवार सदमे में है अब उनके पास जीवन जीने के लिए कोई दूसरा सहारा नहीं बचा है। दलित परिवार ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर इच्छामृत्यु की मांग की है।

Read more: मंत्री जी के निरीक्षण पर बिगड़ी स्वास्थ्य विभाग की तबियत, डॉक्टर समेत चार लोग निलंबित

योगीराज: वोट न देने पर ग्राम प्रधान ने एसडीएम संग रची ऐसी साजिश कि अब किसान मांग रहा है मौत

मामला है हरदोई देहात के मुहीपुरी गांव का जहां के रहने वाले दलित परिवार कन्हैयालाल अपने दो भाइयों और चार बेटों के साथ रहते हैं। उनके मुताबिक करीब 30 सालों से सभी मिलकर गांव में ग्राम समाज की जमीन पर खेती करते थे। जो कि काफी समय पहले प्रधान द्वारा दी गई थी। लेकिन इस साल कन्हैयालाल ने गेहूं की फसल तैयार की और जरूरत के मुताबिक लोगों से इसके लिए पैसा भी उधार लिया लेकिन जब वो फसल काटने पहुंचा तो स्थानीय पुलिस उसे थाने ले आई। थाने पर पहुंचने के बात उसे पता चला कि जिस खेती को उसने खून-पसीने से खड़ा किया था, उसकी फसल को गांव के प्रधान ने एसडीएम से मिलकर नीलाम कर दी।

योगीराज: वोट न देने पर ग्राम प्रधान ने एसडीएम संग रची ऐसी साजिश कि अब किसान मांग रहा है मौत

देखिए ये VIDEO...

इस पर दलित परिवार का कहना है कि उनके परिवार ने प्रधान को वोट नहीं दिया था जिसके चलते उनको ये सजा दी गई है। जब इसकी सच्चाई जानने के लिए थाना अध्यक्ष से पूछा तो उन्होंने बताया कि फसल की नीलामी हो चुकी है और ये भी सत्य है कि ये परिवार 30 सालों से इस जमीन पर खेती करता रहा है। गांव में तमाम लोग हैं जो ग्राम समाज की जमीन पर खेती कर रहे हैं। चूंकि नीलामी हो चुकी है इसलिए इन्हें मना कर दिया गया है कि फसल को अब न काटें। ऐसे में दलित परिवार के पास अब कोई साधन नहीं बचता इसलिए उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर इच्छामृत्यु की मांग की है।

योगी की मंशा पर जिले पर बैठे हाकिम किस तरह पानी फेर रहे हैं ये हम आपको नीलामी के पत्र में दिखाते हैं। किस तरह मौजूदा प्रधान जो कल तक समाजवादी थे, आज भगवा होकर अधिकारी से सांठ-गांठ करके कुछ भी कर सकते हैं। नीलामी पत्र को सबसे ऊपर से पढ़ते हैं तो उसमें प्रार्थना पत्र संख्या और तारीख लिखी है जो 13-04-17 है। अब पत्र को पढ़ते हैं तो नीलामी का दिन बुधवार तारिख 12-04-16 अंकित है। माना की साल गलत हो सकता है लेकिन नीलामी की तारीख एक दिन पहले नहीं हो सकती। इससे हरदोई सदर के SDM सर्वेश गुप्ता की कार्यशैली पर सवाल खड़े होते हैं। बिना उनके निजी स्वार्थ के ऐसा होना संभव नहीं है। नीलामी की कोई भी सूचना किसी को नहीं दी गई है।

Read more: खनन माफिया उड़ा रहे हैं SC के आदेश की धज्जियां, पुलिस की मौजूदगी में दबंगई का VIDEO वायरल

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Peasent desire to death, wrote a letter to CM yogi on fraud with his grain by Gram Pradhan and SDM in Hardoi
Please Wait while comments are loading...