शाहजहांपुर: हत्यारोपियों ने घर में घुसकर लड़की को पीटा, यूपी पुलिस ने बढ़ाया हौसला!

पिता के हत्यारोपियों ने घर में घुसकर नाबालिग लड़की को पीटा। पुलिस ने हत्यारोपियों को गिरफ्तार नहीं किया है।

Subscribe to Oneindia Hindi

शाहजहांपुर। यूपी के शाहजहांपुर में दबंगों के आगे पुलिस नतमस्तक करती दिखाई दे रही है। यही कारण है कि तीन महीने पहले हुई मर्डर के आरोपियों को पुलिस अभी तक गिरफ्तार नहीं कर पाई है। दबंगों का साथ देती पुलिस उनका हौसला बढ़ाने का काम कर रही है। इसलिए मर्डर के आरोपियों ने समझौते का दबाव बनाते हुए घर में घुसकर नाबालिग लड़की की जमकर पिटाई की। Read Also: यूपी पुलिस की शह! दबंगों ने पूरे परिवार को भरे बाजार में चाकू मारा, एक की मौत
 

शाहजहांपुर: हत्यारोपियों ने घर में घुसकर लड़की को पीटा, यूपी पुलिस ने बढ़ाया हौसला!

उसके बाद जब पीड़ित थाने गए तो पुलिस ने थाने से भगा दिया। साथ ही तीन महीने पहले मर्डर होने के बाद भी पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया है। जिसके बाद मजबूर बेसहारा पीड़ित परिवार थाने के चक्कर लगा रहा है। पीड़ित परिवार एसपी आफिस में बैठने वाले आलाधिकारियों से भी मिले लेकिन यहां से भी सिर्फ आश्वासन ही मिला। फिलहाल इस मामले अभी तक एक भी आरोपी गिरफ्तार नहीं हुआ है।
 

0शाहजहांपुर: हत्यारोपियों ने घर में घुसकर लड़की को पीटा, यूपी पुलिस ने बढ़ाया हौसला!

दरअसल घटना निगोही थाना क्षेत्र के खेड़ा गांव की है। यहां के रहने वाले लियाकत, अपनी पत्नी और दस बच्चों के साथ रहते थे। दरअसल चार महीने पहले लियाकत के बड़े बेटे नईम का प्रेम प्रसंग हो गया था। जिसके बाद नईम, लड़की को लेकर फरार हो गया और दोनों ने शादी कर ली। इससे नाराज लड़की के घर वालों ने नईम और उसके परिवार के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवा दिया। बदनामी से नाराज लड़की के परिवार वाले लड़के के पिता को घर से उठा कर ले गए और उसकी हत्या कर दी।

जब नईम को अपने पिता की हत्या की जानकारी मिली तो वह अपने घर लड़की को ले आया और पिता के हत्यारों के खिलाफ पुलिस मुकदमा दर्ज कराया। पुलिस की लापरवाही देखिए कि तीन महीने हो चुके हैं और अभी तक पुलिस ने एक भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। यही वजह है कि आरोपियों के हौसले बुलंद हो गए और दो दिन पहले आरोपियों ने दोबारा पीड़ित के घर में घुसकर 15 साल की बेटी शाहीन की जमकर पिटाई की जिससे उसकी आंखों में गंभीर चोटे आई हैं। जब इसकी शिकायत पीड़ित परिवार थाना करने पहुंचा तो एक बार फिर उसे थाने से भगा दिया गया और आखिरकार फिर उसे आलाधिकारी के पास आस लगाकर आना पड़ा।

घायल शाहीन की मानें तो दो दिन पहले उसके घर में बाशर, बसीम, नशरत, दिलशाद, पप्पू, और नामेटी घुस आए और समझौते की धमकी देने लगे। जब उसने मना किया तो वह लोग घर तोड़फोड़ करने लगे। उसकी मां फरजाना दूसरे गांव भीख मांगने गई थी और भाई काम पर। उसका परिवार बहुत गरीब है। जब उसने समझौते के लिए मना कर दिया तो उन लोगों ने झट से उसके ऊपर हमला कर दिया और कहा कि तेरे बाप का मर्डर किया है, अगर समझौता नहीं किया तो पूरे परिवार को जान से मार देंगे। उसके बाद पीड़ित जब थाने गए तो पुलिस ने कहा कि उन्होंने खुद ही चोट लगाई है। फिलहाल पुलिस ने कोई कार्रवाई नही की है।

जब यह परिवार एसपी ऑफिस आया और एसपी सिटी कमल किशोर से मिला तो उन्होंने महज औपचारिकता पूरी करके आवेदन थाने भेज दी लेकिन खुलेआम घूम रहे आरोपियों की गिरफ्तारी के बारे में कुछ नहीं कहा। जब इस मामले पर हमने एसपी सिटी से बात की तो उनका कहना था कि मुकदमा दर्ज है, विवेचना चल रही है, आरोप तो कोई भी लगा सकता है। Read Also: पति ने किया पत्नी का सौदा, बंधक बनाकर किया गैंगरेप

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Uttar Pradesh, police seems to be encouraging the anti social elements to commit crimes. Murder accused in Shahjahanpur beat girl entering the house.
Please Wait while comments are loading...