पहली ही बारिश में खुली लखनऊ मेट्रो की गुणवत्ता की पोल

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। अखिलेश यादव की सरकार के कार्यकाल में लखनऊ में मेट्रो का काम शुरू हुआ था, उनका दावा था कि लखनऊ मेट्रो उनके कार्यकाल में शुरू हो जाएगी, लेकिन जुलाई माह में भी अभी तक इसका संचालन नहीं शुरू हो सका है। लेकिन उद्घाटन से पहले ही जिस तरह से लखनऊ मेट्रो का रेलवे स्टेशन धंस गया है, उसने मेट्रो स्टेशन के निर्माण की गुणवत्ता पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

lucknow metro

लखनऊ मेट्रो के ट्रांसपोर्ट नगर रेलवे स्टेशन के बाहर की फर्श बारिश की शुरुआत में ही धंस गई है, रैंप की जमीन के धंसने से यहां आने-जाने में लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। यहां फर्श के धंसने के बाद लखनऊ मेट्रो कॉर्पोरेशन पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है कि आखिर किस तरह से मेट्रो के निर्माण कार्य में लापरवाही बरती जा रही है। आखिर कैसे पहली ही बारिश में मेट्रो के निर्माण कार्य की गुणवत्ता की पोल खुल गई।

इसे भी पढ़ें- प्रेमिका से शादी रचाने के लिए युवक ने पहन ली सेना की नकली वर्दी और बनवा ली फर्जी ID

गौरतलब है क प्राथमिक सेक्शन के लिए ट्रांसपोर्ट नगर, कृष्णा नगर, सिंगार नगर, आलमबाग, आलमबाग बस अड्डा, दुर्गापुरी, चारबाग स्टेशन का निर्माण कराया गया है। नॉर्थ साउथ कॉरीडोर प्रोजेक्ट के लिए कुल 6880 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। जिसका निर्माण कार्य 27 सितंबर 2014 को शुरू हुआ था और 19 नवंबर 2016 को इसका पहला ट्रायल हुआ था। माना जा रहा है कि इसी माह लखनऊ मेट्रो का संचालन शुरू किया जा सकता है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Lucknow metro railway station quality exposed after first rain. Metro railway station floor cracked in first rain.
Please Wait while comments are loading...