काशी में नर्सिंग छात्रा का वीडियो वायरल, हॉस्टल में उसके साथ क्या हुआ?

Subscribe to Oneindia Hindi

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के वाराणसी में पिछले दिनों एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें एक छात्रा खुद को एपेक्स अस्पताल द्वारा 40 दिनों से बंधक बनाकर रखने का सनसनीखेज आरोप लगाते हुए दिख रही है। वीडियो के प्रशासन की नजर में आते ही इसकी सत्यता की जांच के लिये वाराणसी पुलिस दल-बल के साथ एपेक्स हास्पिटल पहुंची और मामले की तफ्तीश मे जुट गई। जानकारी के मुताबिक पिछले एक महीने से छात्राएं एपेक्स नर्सिंग कॉलेज की मान्यता नहीं होने के आरोप लगाते हुए सड़क से लेकर मुख्यमंत्री आवास तक आन्दोलन कर रही हैं। (वीडियो नीचे की स्लाइड्स में)

हॉस्पिटल मैनेजमेंट पर छात्रा का आरोप

हॉस्पिटल मैनेजमेंट पर छात्रा का आरोप

अभी कुछ दिन पहले ही सीएम के सचिव के आदेश पर कालेज की चेयरमैन डा.एसके सिंह के खिलाफ धमकाने और धोखाधड़ी का मुकदमा भी लंका थाने में दर्ज हुआ है। इस बीच एपेक्स की नर्सिंग कालेज की छात्रा ममता का एक वीडियो वायरल हुआ जिसमें नर्सिंग की छात्रा ने कालेज के हास्टल में खुद को बंधक बना कर रखने का आरोप एपेक्स अस्पताल प्रबंधन पर लगाया। छात्रा ने वीडियो के माध्यम से आरोप लगाया कि उसे एक महीने से हॉस्टल से बाहर नहीं निकलने दिया जा रहा है। छात्रा ने ये दावा किया कि वो एपेक्स नर्सिंग कालेज की छात्रा है और वे इस समय हॉस्टल के कमरे में कैद है।

छात्र करती रही वीडियो वायरल

सबसे पहले हम आपको वो वायरल वीडियो दिखाते हैं जिसमें छात्रा अपनी वीडियो बनाकर वायरल करती है और बता रही है कि मुझे यहाँ कई दिनों से बंधक बनाकर रखा गया है। कैम्पस के बाहर न आने दिया जा रहा है और ना ही जाने दिया जा रहा है। मैं यहाँ से हमेशा के लिए जाना चाहती हूँ लेकिन यहाँ के लोग मुझे नहीं जाने देते है। सुनिए वीडियो में छात्रा ने क्या-क्या आरोप लगाए हैं?

अपनी सफाई देता नजर आया कालेज प्रशासन

वहीं जब पुलिस और मीडिया अस्पताल के कैम्पस में जाकर छात्रा से पूछताछ करती है तो तब जाकर अस्पताल प्रशासन सामने आता है और अपनी सफाई में कहता हैं कि ऐसी कोई बात नहीं हैं ,अकेली लड़की थी इसलिए उसे छोड़ा नहीं जा रहा था। पर छात्रा के मुताबिक़ उसके परिवार ने अस्पताल में आकर यह बात कह दी थी कि लड़की को छोड़ दिया जाए लेकिन उसके बावजूद नहीं छोड़ा गया।

गौरतलब है कि एपेक्स नर्सिंग कालेज की छात्रायें नर्सिंग कालेज की मान्यता नहीं होने के आरोप लगाते हुए पिछले एक महीने से सड़क से लेकर मुख्यमंत्री तक आन्दोलन कर रही है। छात्राओं की मांग है कि कालेज की मान्यता नहीं है लिहाजा कॉलेज प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की जाय और उनका पैसा वापस किया जाय। सात मार्च को जब छात्राओं ने पीएम के संसदीय कार्यालय पर धरना दिया तो उसके बाद आनन-फानन में कॉलेज प्रशासन ने मामले को दबाने के लिए परीक्षा की तिथि घोषित कर दी। जबकि छात्राओं के मुताबिक दो साल में एक भी परीक्षा नहीं करायी गयी तो उन्हें कालेज की मान्यता पर शक हुआ और उन्होंने आन्दोलन शुरु किया। कालेज के हास्टल में रहने वाली ज्यादातर छात्राये परीक्षा दे रही है लेकिन बाहर रहने वाली छात्रायें परीक्षा नहीं दे रही है बल्कि वे अपना पैसा वापस लेने के लिए आन्दोलन कर रही है।

पुलिस कर इस मामले की जाँच

पुलिस कर इस मामले की जाँच

oneindia से बात करते हुए लंका थानाध्यक्ष देवेन्द्र सिंह ने बताया कि जब जांच के लिये पुलिस एपेक्स अस्पताल पहुंची तो एकबारगी पूरे परिसर मे हड़कंप मच गया। पुलिस ने बताया कि वीडियो मे दिख रही छात्रा एपेक्स की छात्रा है जो कई दिनों से घर जाना चाह रही थी लेकिन उसे छुट्टी नहीं मिल रही थी। छात्रा को बंधक बनाकर रखने के दावो की जांच पुलिस अभी कर रही है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Kashi Nursing Student video viral in Varanasi.
Please Wait while comments are loading...