रक्षाबंधन पर इस भाई ने अपनी बहन को गिफ्ट किया शौचालय

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

वाराणसी। एक भाई ने रक्षाबंधन पर बहन को एक ऐसा अनमोल तोहफा दिया है जिसके बारे में जानकर एक बार आप भी हारत में पड़ जाएंगे। इस भाई ने अपनी बहन को रक्षाबंधन पर गिफ्ट में शौचालय दिया है। दरअसल, इस शख्स की बहन की शादी जिस घर में हुई थी वहां शौचालय नहीं था। बहन ने बताया कि 11 साल से वो शौच के लिए घर के बाहर खेतो में जाती थी और अब बेटी भी बड़ी हो रही है। मेरे भइया ने मेरी समस्या को समझा और घर की इज्जत को बचाया।

शादी के 11 साल बाद मिला ये अनमोल तोहफा

शादी के 11 साल बाद मिला ये अनमोल तोहफा

ये मामला राजातालाब के दीपापुर गांव का है। जहां लोहता थाना क्षेत्र के घमहापुर के रहने वाले अशोक कुमार पटेल ने अपनी बहन की शादी के 11 साल बाद टॉयलेट गिफ्ट किया। यही नहीं 3 दिनों से युवक अशोक 15,000 हजार की लागत से बहन सुनीता के घर रुककर टॉयलेट बनवाया। खुद अपने हाथों से ईंट ढोए। युवक अशोक का कहना है, 'पत्नी पूजा पटेल के ग्राम प्रधान बनते ही उसने पीएम मोदी के स्वच्छता अभियान के तहत सभी को टॉयलेट को लेकर जागरूक किया। इसके बाद प्रधान फंड से 60 से ऊपर टॉयलेट घमहापुर लोहता में बनवाया। लेकिन वहीं मेरी दीदी 11 साल से बाहर शौच जा रही थीं। अब तो उसकी बेटी भी साथ जाने लगी। यह बात मुझे खटकने लगी तभी सोच लिया कि इस बार रक्षाबंधन पर कपड़े-पैसों की जगह टॉयलेट गिफ्ट करूंगा।

परिवार की जिम्मेदारी के कारण नहीं हो बन पाया शौचलय

परिवार की जिम्मेदारी के कारण नहीं हो बन पाया शौचलय

सुनीता बताती है कि 2006 में मेरी शादी प्रभात कुमार से हुई। हमारा परिवार मिडिल क्लास है और पति किसानी करते हैं। गांव में सिर्फ 3 परसेंट लोगों के यहां ही टॉयलेट होगा। हम लोगो को घर से 1 किलोमीटर दूर शौच करने जाना पड़ता था। आए दिन दूसरे गांवों में छेड़खानी की घटनाएं सुनने को मिलती थी। अब बेटी रानी भी बड़ी हो रही है, इसको देखते हुए भाई ने अच्छा गिफ्ट दिया।

जीजा ने क्या कहा

जीजा ने क्या कहा

वहीं अशोक के जीजा प्रभात का कहना है 2007 पिता की मौत के बाद दो बहनों की शादी जिम्मेदारी भी मुझ पर ही आ गई। इस वजह से शौचालय बनवाने के बारे में सोच ही नहीं पाया। साले का बहन के लिए इतना प्यार देख उसे दिल से सलाम करना चाहूँगा।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Varanasi, UP, a brother gifted toilet to his sister.
Please Wait while comments are loading...