नोटबंदी के फैसले के बाद यूपी में भाजपा की बिगड़ती तस्वीर

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरह से बड़े नोटों पर प्रतिबंध लगाया है उससे बैंकों के बाहर लंगी लंबी-लंबी कतारें पार्टी की मुश्किल बढ़ाती नजर आ रही है।

आगामी यूपी चुनाव पर नजर डालें तो बैंको के बाहर लगी लंबी लाइनों से लोगों को हो रही दिक्कतों के बाद अब लोगों का सब्र टूटता नजर आ रहा है।

BJP

नोटबंदी के बाद काम के दौरान हुई 11 बैंक कर्मियों की मौत: एआईबीओसी

पार्टी के नेता ही कर रहे हैं विरोध

तमाम भाजपा नेता जहां पीएम मोदी के इस फैसले को कालाधन पर सर्जिकल स्ट्राइक बता रहे हैं तो कैमरे से पीछे वह सरकार के इस फैसले पर सवाल भी खड़े कर रहे हैं।

इन नेताओं ने सरकार के फैसले के चलते यूपी चुनाव में पार्टी को नुकसान होने की भी बात कह रहे हैं।

NDA सांसदों से पीएम मोदी ने कहा- क्षेत्र में जाकर जनता को समझाएं विमुद्रीकरण की हकीकत

पार्टी के फैसले के बाद सरकार इस बात का आंकलन कर रही है कि इस फैसले के बाद क्या नुकसान और क्या फायदा हो रहा है। भाजपा सांसद यह तक कह रहे हैं कि इस फैसले के चलते हमें लोगों की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है।

बैकों के बाहर लगी लाइन बनी मुश्किल

तमाम बैंकों के बाहर लग रही लाइनों के बीच कई मौत की खबरें भी सामने आई हैं, कई लोगों के घर शादी-विवाह थे वह भी रद्द करने पड़े हैं। नोटबंदी के चलते पार्टियों के लिए चुनावी रणनीति बनाने में भी काफी मुश्किलें आ रही हैं।

अभी तक भाजपा को इस बात का अंदेशा था कि वह प्रदेश में काफी आगे चल रही है।

घबराएं नहीं, अफवाह है सरकार द्वारा बैंक लॉकर सील और गहने जब्‍त करने की खबर

सरकार के लिए जो सबसे बड़ी समस्या है वह यह कि इस फैसले के बाद किसानों और गरीबो को सबसे अधिक समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

सपा सरकार का लगातार हमला जारी

सपा सरकार ने केंद्र पर लगातार हमला करना शुरु कर दिया है कि सरकार के इस फैसले के चलते रबी की फसलों को काफी नुकसान हो रहा है। किसानों को खाद और बीज खरीदने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है, कई किसान अब खुलकर सरकार को कोसना शुरु कर दिया है।

तीन दिन में 70 किमी पैदल चला किसान, बैंक से निकाल पाया 2000 रुपये

अखिलेश यादव ने केंद्र पर हमला बोलते हुए कहा कि यह कोई प्राकृतिक आपदा नहीं है बल्कि सरकार की बनाई हुई आपदा है जिसका नुकसान किसानों को उठाना पड़ रहा है।

मुख्यमंत्री के करीबी उदयवीर सिंह का कहना है कि जो ऐसा समझते हैं कि इससे कालाधन खत्म हो जाएगा वो गलत हैं, लोग दूसरा रास्ता ढूंढ लेंगे, लेकिन गरीबों की मुश्किल कम नहीं होगी।

भाजपा नेता ने भी माना लोगों को दिक्कत

भाजपा का राष्ट्रीय महासचिव विजय बहादुर पाठक ने स्वीकार किया है कि गरीबों और मध्यम वर्ग को काफी मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा है। लेकिन उनका कहना है कि यह जल्द ही खत्म हो जाएगी।

नोटबंदी: ये 3 कारण साबित करते हैं कि फ्लॉप शो थी केजरीवाल की आजादपुर रैली

उन्होंने कहा कि लोगों को दिक्कतें हैं इससे हम मना नहीं कर सकते हैं, लेकिन लोग पीएम के फैसले से खुश हैं।

कांग्रेस भी हमलावर

यूपी कांग्रेस नेता आराधना मिश्रा का कहना है कि गरीबों सबसे अधिक समस्या हो रही है, इस नोटबंदी के चलते उन्हें हर रोज नई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

छोटे व्यापारी जोकि काफी मेहनत करते हैं उन्हें लाइनों में खड़ा होना पड़ रहा है।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने कहा- ज्यादा पैसे को काला धन नहीं ,अनकाउन्टेड मनी कहिए

पीएम मोदी की रैली भी स्थगित

सूत्रों की मानें तो प्रधानमंत्री की 24 दिसंबर को लखनऊ में प्रस्तावित रैली को भी स्थगित कर दिया गया है। समाचार एजेंसी आईएएनएस के सूत्रों की मानें तो पीएम मोदी की यह रैली अगले वर्ष जनवरी माह में होगी।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
How demonetisation is proving a self goal for BJP ahead of UP poll
Please Wait while comments are loading...