किसी पार्टी का अस्तित्व ही नहीं, तो कहीं दफ्तर में चलती मिली परचून की दुकान

Subscribe to Oneindia Hindi

बुलंदशहर चुनाव आयोग ने राजनीतिक रूप से निष्क्रिय 255 पार्टियों का पंजीकरण रद्द कर दिया है। वहीं इन राजनीतिक पार्टियों का जमीनी सच और भी चौंकाने वाला है। किसी पार्टी का अस्तित्व ही नहीं मिला तो कहीं दफ्तर में परचून की दुकान चलती मिली। बुलंदशहर जिले की दो पार्टियों का चुनाव आयोग में पंजीकरण है, युवा जनजागृति पार्टी और राष्ट्रीय जनसंगम पार्टी। बता दें कि युवा जनजागृति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामगोपाल शर्मा परचून की दुकान चला रहे हैं। ये दुकान ही पार्टी का राष्ट्रीय कार्यालय भी है।

किसी पार्टी का अस्तित्व ही नहीं, तो कहीं दफ्तर में चलती मिली परचून की दुकान
ये भी पढ़ें- बीजेपी ने लगाया आरोप-यूपीए सरकार ने अबानी और अडानी को दिया था 1,85,000 करोड़ का लोन

युवा जनजागृति पार्टी के अध्यक्ष के दावे के मुताबिक पार्टी में 100 सदस्य हैं। यह राष्ट्रीय पार्टी केवल जनपद तक ही सीमित है। रामगोपाल शर्मा बताते हैं कि 2002 में चुनाव आयोग से उन्होंने पार्टी को पंजीकृत कराया था। साथ ही उन्होंने बताया कि 2011 में पार्टी का पंजीकरण रद्द करने का प्रार्थना पत्र वह चुनाव आयोग दे चुके हैं। वहीं, अधर्म को जड़ से समाप्त करने के उद्देश्य से 1996 में त्रिलोकी प्रसाद शर्मा ने राष्ट्रीय जन संगम पार्टी की नींव रखी। चुनाव आयोग में 1997 में पार्टी का पंजीकरण कराया गया था। त्रिलोकी प्रसाद पेशे से एक किसान हैं और आर्थिक कारणों के चलते पार्टी का कोई प्रत्याशी किसी भी चुनाव में खड़ा नहीं कर सके।

किसी पार्टी का अस्तित्व नहीं, कहीं दफ्तर में परचून की दुकान
ये भी पढ़ें- नरेंद्र मोदी बोले, 50 दिन बाद बेईमानों के बुरे दिन शुरू होंगे

त्रिलोकी प्रसाद शर्मा के शिवपुरी स्थित आवास और पार्टी का दफ्तर भी है। पार्टी दफ्तर पर न झंडा है न कोई बोर्ड। अध्यक्ष का दावा है कि उसके एक हजार सदस्य हैं और यह प्रदेश के 10 जिलों में सक्रिय हैं। उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग से 16 मार्च 2016 को एक लेटर प्राप्त हुआ था। जिसमें लिखा था कि 2005 से वर्ष 2015 तक की अवधि में लोक सभा/राज्य विधान सभाओं में कोई प्रत्याशी खड़ा नही किया गया। इस कारण राष्ट्रीय जन संगम पार्टी को हटा दिया है। पार्टी के संस्थापक व अध्यक्ष त्रिलोकी प्रसाद शर्मा ने कहा कि चुनाव आयोग ने उनके साथ गलत किया है और पार्टी के सदस्यों की मीटिंग के बाद तय किया जाएगा कि आगे क्या करना है। फिल्हाल पार्टी सदस्य कोर्ट में जाने का मन बना रहे हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
grocery shops are running in some of the party offices
Please Wait while comments are loading...