यूपी में बदमाश हुए कैशलेस, पेटीएम और इंटरनेट बैंकिग से फिरौती वसूली

Subscribe to Oneindia Hindi

मथुरा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैशलेस मुहिम को भले ही लोग अभी अपनाने से चूक रहे हों लेकिन बदमाश इस तकनीक का बखूबी इस्तेमाल करने से नहीं चूक रहे। मथुरा में बाहर के व्यापारियों को बुलाकर बंधक बनाने और छोड़ने की एवज में बदमाश पेटीएम और अन्य कैशलेश तरीके से फिरौती वसूल रहे हैं।। इंदौर के व्यापारियों को अपहरण के बाद फिरौती पेटीएम से लेकर छोड़ने की वारदात के बाद एक बार फिर इस गैंग के सदस्य ने अब कर्नाटक और फरीदाबाद के व्यापारियों को अपना शिकार बनाया है। टटलू गैंग के नाम से विख्यात हो चुका ये गैंग अब कैशलेश तरीके का बखूबी उपयोग कर रहा है और पुलिस है कि जांच की बात कह जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रही है। Read Also: मां ने अपने प्रेमी से कराया 13 साल की बेटी का रेप, खुद बैठकर देखती रही

यूपी में बदमाश हुए कैशलेस, पेटीएम और इंटरनेट बैंकिग से फिरौती वसूली
 

मथुरा के आधा दर्जन थाना क्षेत्र मे एकबार फिर टटलू लुटेरों की सक्रियता बढ़ गयी है। टटलू लुटेरों ने एक ही दिन में फरीदावाद व कर्नाटक की दो पार्टियों को झांसे मे लेकर बुलाकर हथियारों के बल पर लाखों की नगदी व आभूषण लूट लिये। इतना ही नहीं, टटलू लुटेरे कर्नाटक की पार्टी को तो सुबह कस्बा के बस स्टैण्ड से बाइक पर बिठा कर मडौरा के जंगलों में ले गये, मारपीट कर बंधक बना लिया और उनके साथ लूटपाट की। किशी तरह बदमाशों के चंगुल से बचकर थाने पहुँचे पीड़ितों ने अपने साथ घटी घटना की जानकारी पुलिस को दी। पहली घटना कर्नाटक के चावल व्यापारी मुरलीधर वी कामत व उसके साथी वैंकटाचला के साथ घटी।

मुरलीधर के अनुसार, वह कर्नाटक के शिमोगा मे चावल का कारोबार करता है। कई दिन से राहुल नामक व्यक्ति फोन कर अच्छा बासमती चावल सस्ती कीमत में देने की बात कर रहा था। इतना ही नही फोनकर्ता ने चावल का रेट व नमूना भी उनके वाट्सऐप पर भेजा तो उन्हें पसंद आ गया। मुरलीधर के अनुसार, वह हवाई यात्रा कर रविवार को दिल्ली आये तथा वहां से मथुरा पहुचे। रात हो जाने के कारण वह मथुरा में ही आदित्य लॉज मे रुक गये और लॉज मालिक से टैक्सी मंगवाकर सोमवार सुवह गोवर्धन आये। फोन करनेवाले ने उनसे उनकी टैक्सी बस स्टैण्ड पर खड़ी कर पैदल ही राधाकुण्ड रोड स्थित विंग्स्टन होटल बुलाया तो वह टैक्सी व चालक को छोड़ कर बताये स्थान पर पहुंच गये। जहां बाइक सवार बहाना बनाकर दोनों को बाइक पर बैठाकर बरसाना रोड पर कच्चे रास्ते से जंगलो में ले गया। मुरलीधर ने टोका तो कहा कि उनकी गाड़ी पलट गयी है। जंगल में ले जाकर वहां पहले से मौजूद पांच छह हथियारबंद लोगों ने मुरलीधर व उसके साथी को घेर लिया और तमंचे लगा कर बंधक बना लिया। बदमाशों ने पहले उनसे नगदी व चैन अंगूठी छीन ली। और उसके बाद टटलूओ ने मुरलीधर व वैंकटाचला से मारपीट कर घर से नगदी मंगाने की बात कही।

पिटाई के चलते मुरलीधर ने टटलुओं द्वारा बताये गये बैंक खाते में अपने परिजनों से फोन पर कहकर दो लाख रुपये की नगदी इंटरनेट से डलवाई। खाता अलवर की एच डी एफ सी बैंक में अरशद नाम से बताया गया और कुछ रकम पेटीएम से ली। तब कहीं जाकर टटलुओं ने दोनो को मारपीट कर वहां से भगाया। मुरलीधर ने रोते हुये बताया कि टटलू लुटेरों ने उन दोनों से नवरत्नजड़ित कीमती सोने की अंगूठी सहित कुल तीन सोने अंगूठी, एक सोने की चैन, एक चांदी की अंगूठी व बीस हजार की नगदी, दो मोबाइल फोन, तीन एटीएम कार्ड लूट लिये। पुलिस अब इस मामले में जांच कर कार्रवाई की बात कह रही है। Read Also: 100 रुपए के लिए दोस्‍त की हत्‍या करने वाला 50 साल का बुजुर्ग गिरफ्तार

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Uttar Pradesh, gang of goons are now using cashless methods to take money as ransom. They are using internet banking and Paytm.
Please Wait while comments are loading...