पैन कार्ड बना 1200 करोड़ रुपए के फर्जीवाड़े का जरिया, इनकम टैक्स के नोटिस से व्यापारी सन्न

Subscribe to Oneindia Hindi
मथुरा। इनकम टैक्स विभाग ने मथुरा के एक व्यापारी को 1200 करोड़ रुपए से ज्यादा का नोटिस भेज दिया है। इस ट्रांजेक्शन में व्यापारी के पैन कार्ड का इस्तेमाल किया गया है जिसके बारे में उनको खुद भी कोई जानकारी नहीं है। इस पैन कार्ड का एक दो बार नहीं बल्कि 6,954 बार इस्तेमाल किया गया और 1200 करोड़ से ज्यादा की रकम इधर से उधर की गई।
पैन कार्ड बना 1200 करोड़ रुपए के फर्जीवाड़े का जरिया, इनकम टैक्स के नोटिस से व्यापारी सन्न
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कालेधन पर की गई सर्जिकल स्ट्राइक से जहां एक ओर काला धन रखने वालों में अफरातफरी मच गई वहीं इससे कई लोगों के खाते में करोडों रुपए आने की खबरें आपने खूब सुनी और पढ़ी होंगी। लेकिन इस मामले में ना तो पैसा आया और न ही उन्होंने पैसे का कोई लेनदेन किया फिर भी इनकम टैक्स विभाग ने 12 सौ 93 करोड़ रुपए का नोटिस इस व्यापारी को भेजा है। मामला मथुरा के रहने वाले नीरज कुमार गर्ग का है। नीरज कुमार का कहना है की उन्होंने अपने खाते से सिर्फ 2 लाख 45 हजार का ट्रांजेक्शन किया लेकिन उन्हें इनकम टैक्स विभाग की तरफ से जो नोटिस भेजा गया उससे वो अनजान हैं। नीरज गर्ग मथुरा के महोली रोड के रहने वाले हैं और उनका छोटा व्यापार है। उनके खाते से 12 सौ 93 करोड़ का ट्रांजेक्शन कैसे हुआ उन्हें नहीं पता।
पैन कार्ड बना 1200 करोड़ रुपए के फर्जीवाड़े का जरिया, इनकम टैक्स के नोटिस से व्यापारी सन्न

जब उन्होंने इस बात की पड़ताल की तो उन्हें पता चला की उनके पैन कार्ड का गलत इस्तेमाल किया गया। उनके पैन कार्ड को करीब 6,954 बार इस्तेमाल किया गया है। जिससे अलग-अलग खातों में पैसा ट्रांसफर किया गया। पैन कार्ड के नंबर का इस्तेमाल सिर्फ प्राइवेट खातों में ही ट्रांजेक्शन के लिए नहीं किया बल्कि कई सरकारी खातों में भी इनके पैन कार्ड का इस्तेमाल कर मोटी रकम इधर से उधर की गई। नीरज गर्ग के मुताबिक उनके खाते से इस पैसे का ट्रांजेक्शन नहीं किया गया है। नीरज गर्ग का कहना है कि उनका दिल्ली की संसद मार्ग स्थित पंजाब नेशनल बैंक की ब्रांच में कोई खाता भी नहीं है। फिर भी दिल्ली के इस ब्रांच से इतना बड़ा ट्रांजेक्शन किया गया है।

देखिए Video...

इस नोटिस के मिलने के बाद नीरज गर्ग का परिवार परेशान है। अब उसकी समझ में नहीं आ रहा की आखिर क्या किया जाए? नोटिस मिलने के बाद अब व्यापारी के पूरे परिवार में दहशत है। नीरज गर्ग अब बैंक और सीए के चक्कर काट रहे हैं। उनकी समझ में नहीं आ रहा की आखिर उन्हें इस मुसीबत से कैसे निजात मिलेगी? ऐसे में सवाल ये उठ रहे हैं कि ये महज कोई चूक है या फिर काले धन को सफेद करने की कोई बड़ी साजिश!

Read more: इलाहाबाद: लेडी डॉक्टर बोलीं, रेप पीड़ित बच्ची को सड़क पर फिंकवा दूंगी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Forgery from Pancard around 1300 crore of rupees in Mathura
Please Wait while comments are loading...