डॉन मुन्ना बजरंगी का नजदीकी राजा पांडेय पुलिस की गिरफ्त से हुआ फरार, घायल होने से पकड़ा गया दुबारा

डॉ. बंसल की मर्डर मिस्ट्री में देर रात गजब का ड्रामा हुआ। हत्या में प्राइम सस्पेक्ट राजा पांडेय पीजीआई से पुलिस वालों को चकमा देकर फरार हो गया। लेकिन घायल होने की वजह से बच नहीं सका।

Subscribe to Oneindia Hindi

इलाहाबाद। इलाहाबाद के मशहूर सर्जन डॉ. बंसल की मर्डर मिस्ट्री में देर रात गजब का ड्रामा हुआ। हत्या में प्राइम सस्पेक्ट राजा पांडेय पीजीआई से फरार तो हुआ लेकिन जल्द ही पकड़ा गया। शुरू में निगरानी में लगे पुलिसकर्मियों को इस बात की हवा तक नहीं लगी और जब भनक लगी तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पूरे सूबे में हाई अलर्ट जारी किया गया। रातों-रात पुलिस का सर्च ऑपरेशन फौजी अभियान में बदल गया।

Read more: सीबीएसई का राहत भरा फैसला, 2017 को माना जाएगा पहला अटेम्प्ट

डॉन मुन्ना बजरंगी का नजदीकी राजा पांडेय पुलिस की गिरफ्त से हुआ फरार, घायल होने से पकड़ा गया दुबारा

पांडेय की लोकेशन कानपुर में ट्रेस होते ही स्थानीय पुलिस सक्रिय हुई और उस अस्पताल को घेर लिया गया जहां राजा पांडेय मौजूद था। राजा के पकड़े जाने पर पुलिस अधिकारियों ने राहत की सांस ली। क्योंकि अभी तक बंसल हत्याकांड में जांच राजा पांडेय के ही इर्द-गिर्द घूम रही थी। अगर वह ही फरार हो जाता तो पूरे देश में डॉक्टरों का भड़कना तय था।

घायल होने से आरोपी को पकड़ा हुआ आसान

मालूम हो कि राजा पांडेय मौजूदा समय में घायल है और उसका इलाज पीजीआई में चल रहा है। माना यह जा रहा है कि अगर राजा घायल ना होता तो दुबारा उसे पकड़ पाना नामुमकिन ही था। अंडरवर्ल्ड में अंदर तक पैठ बनाए राजा की सुरक्षा में लगे पुलिस कर्मियों पर भी सवाल उठे हैं।

आखिर भागने में कैसे कामयाब हुआ राजा

इलाहाबाद में बारा थानाध्यक्ष रहे राजेंद्र द्विवेदी को गोलियों से भूनकर हत्या करने का आरोपी राजा पांडेय अपने ही गैंगवार में तीन गोली का शिकार हुआ है। पीजीआइ में आपरेशन कर उसके शरीर से गोली निकाली गई है और जख्म सूखने के लिए उसकी आंत पेट से बाहर है। अभी उसका एक और आपरेशन होना है। डॉक्टरों से लड़कर राजा पांडेय ने खुद को डिस्चार्ज करा लिया और पुलिस की नजरों से बचता हुआ अस्पताल से फरार हो गया। यह बात पुलिस को पता चली तो सब के हाथ पांव फूलने लगे।

राजा भागकर कानपुर में कराने वाला था इलाज

कानपुर पहुंचा राजा पांडेय एक अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती भी हो गया था। इधर पुलिस ने राजा पांडेय के गांव से एक युवक को भी पूछताछ के लिए तलब किया। जल्द ही पुलिस ने राजा को ट्रेस कर लिया। राजा ने पुलिस को अपने अपराधी बनने की कहानी भी सुनाई और पीजीआई में ठीक से इलाज न होने की बात कही। उसने बताया कि इसलिए वह कानपुर इलाज कराने चला आया।

डॉ. बंसल को चेंबर में गोली मारने की दी थी धमकी

डॉ. बंसल हत्याकांड में राजा पांडेय का क्या हाथ है यह तो अभी जांच का विषय बना हुआ है। लेकिन पूरी गुत्थी सुलझाने तक पुलिस राजा को अपनी निगाह के सामने देखना चाहती है। बता दें कि आपसी गैंगवार में गोली लगने के बाद राजा पांडेय का इलाज जीवन ज्योति में चल रहा था। बिल न जमा करने पर डॉ. बंसल ने उसे भगा दिया था। तब उसने बंसल को चेंबर में घुस कर गोली मारने की धमकी दी थी। डॉ. बंसल की हत्या कराने के लिए उसने कई शूटरों से संपर्क भी किया था। ऐसे में डॉन मुन्ना बजरंगी के नजदीकी राजा पर पुलिस का शक सबसे गहरा है।

कहानी में एक और ट्विस्ट

वहीं बंसल मर्डर मिस्ट्री में एसटीएफ ने नया ट्विस्ट खोज निकाला है। हत्याकांड के दिन अस्पताल की एक महिला और दो पुरुष कर्मचारी गैरहाजिर थे। वारदात से ठीक दो दिन पहले महिलाकर्मी की यमुनापार के एक शातिर शख्स से भी बातचीत हुई थी। जबकि एक कर्मचारी आउट ऑफ सिटी था। अब इनके मोबाइल की कॉल डिटेल खंगाली जा रही है। बंसल की पत्नी डॉ. वंदना ने महिला कर्मचारी के न आने पर कुछ देर पहले ही पूछताछ की थी। आश्चर्य की बात यह रही कि हत्याकांड के अगले दिन भी वह अस्पताल नहीं आई। गैरहाजिर कर्मचारियों के बीच बातचीत भी हुई थी। याद दिला दे कि डॉ. बंसल को जीवन ज्योति अस्पताल में उनके चेंबर के अंदर घुसकर शूटरों ने गोली मार दी थी। कुछ घंटे बाद इलाज के दौरान बंसल की मौत हो गई थी।

Read more:यूपी चुनावः मऊ में अंसारी बनाम अंसारी की लड़ाई होगी दिलचस्प

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Don Munna bajrangi aide Raja panday arrest again after doctor Bansal murder
Please Wait while comments are loading...