मंत्री जी के निरीक्षण पर बिगड़ी स्वास्थ्य विभाग की तबियत, डॉक्टर समेत चार लोग निलंबित

कैबिनेट मंत्री के छापे की सूचना पाकर एएनएम व अन्य चिकित्साकर्मी उपस्थिति पंजिका पर आनन-फानन में हस्ताक्षर बनाने लगे। इस पर कैबिनेट मंत्री ने सभी अभिलेखों को अपने कब्जे में ले लिया।

Subscribe to Oneindia Hindi

बहराइच। प्रदेश सरकार के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने फखरपुर स्वास्थ्य केंद्र पर छापेमारी की, इस दौरान यहां बड़े पैमाने पर अव्यवस्था मिली। एक चिकित्सक को छोड़कर कोई भी कर्मचारी ड्यूटी पर नहीं मिला। इस पर सीएमओ ने चिकित्सक समेत चार लोगों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें निलंबित कर दिया है। मंत्री ने स्वास्थ्य केंद्र के सभी अभिलेख जब्त कर लिए हैं। वहीं कैबिनेट मंत्री ने बसंतापुर स्थित खाद्य विपणन विभाग के भंडार गृह का औचक निरीक्षण किया। यहां पर भी तौल कांटा गड़बड़ मिला। बड़े पैमाने पर अनियमितता और अव्यवस्थाएं मिली। इस पर विभाग के एमडी को तलब कर दिया गया।

Read more:खनन माफिया उड़ा रहे हैं SC के आदेश की धज्जियां, पुलिस की मौजूदगी में दबंगई का VIDEO वायरल

मंत्री जी के निरीक्षण पर बिगड़ी स्वास्थ्य विभाग की तबियत, डॉक्टर समेत चार लोग निलंबित

फखरपुर के बसंतापुर स्थित खाद्य विभाग के गोदाम में घटतौली की शिकायतें अरसे से मिल रही थीं। इसके अलावा अन्य अव्यवस्थाओं की भी शिकायतें थीं। जिसके चलते प्रदेश सरकार के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा अमले के साथ अचानक खाद्य विभाग के भंडार गृह पहुंच गए। यहां पर बड़े पैमाने पर गंदगी मिली। तौल का संपूर्ण हिसाब मौके पर मौजूद प्रभारी बता नहीं सका। गोदाम में जो कांटा लगा हुआ था, उस पर कैबिनेट मंत्री ने बोरियों की तौल कराई तो डेढ़ से दो किलो का अंतर मिला। इस कैबिनेट मंत्री ने खाद्य विभाग के एमडी को कार्यालय में तलब किया है। साथ ही मौके पर मौजूद कर्मचारियों को पारदर्शितापूर्ण कार्य करने की हिदायत दी।

इसके बाद सहकारिता मंत्री फखरपुर स्वास्थ्य केंद्र पहुंच गए। यहां पर ड्यूटी पर सिर्फ एक चिकित्सक मिला। इसके अलावा एक भी एएनएम मौके पर मौजूद नहीं थी। इलाज की भी समुचित व्यवस्था नहीं थी। इस पर कैबिनेट मंत्री ने नाराजगी जताई। स्वास्थ्य केंद्र के कैंटीन में ताला लटक रहा था। कैबिनेट मंत्री के छापे की सूचना पाकर एएनएम व अन्य चिकित्साकर्मी उपस्थिति पंजिका पर आनन-फानन में हस्ताक्षर बनाने लगे। इस पर कैबिनेट मंत्री ने सभी अभिलेखों को अपने कब्जे में ले लिया। अभिलेख सील कर वाहन में रखवाने के बाद सीएमओ को तलब किया है।

कैबिनेट मंत्री के औचक निरीक्षण में अनियमिताओं के मामले में सीएमओ डॉ. अरुणलाल ने ड्यूटी से नदारद एक डॉक्टर सम्त तीन कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। सीएमओ ने बताया कि अन्य विभागीय कार्रवाई भी शुरू की गई है। इस मौके पर कैबिनेट मंत्री के मीडिया प्रभारी मंदीप सिंह वालिया समेत काफी संख्या में कार्यकर्ता भी मौजूद रहे। कैबिनेट मंत्री के फखरपुर स्वास्थ्य केंद्र निरीक्षण की भनक जैसे ही कैसरगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व जरवल के स्वास्थ्य केंद्रों पर पहुंची। वहां भी अफरा-तफरी की स्थिति बन गई। आनन-फानन में व्यवस्थाएं दुरुस्त की गई।

Read more:सपा सरकार में नियुक्त हुए आखिरी अपर महाधिवक्ता अशोक पांडेय ने भी दिया इस्तीफा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Co-operative minister raids in PHC, doctors including 4 suspended in Bahraich
Please Wait while comments are loading...