अगर नहीं मानी पिता ने बात तो अखिलेश तोड़ देंगे बेड़ियां, अकेले लड़ेंगे चुनाव

उत्तर प्रदेश की राजनीति में कोई भी मोड़ आ सकता है। यूं तो अखिलेश, 13 जनवरी को आने वाले आयोग के फैसले का इंतजार कर रहे हैं, फिर भी उन्हें अपने पिता पर भरोसा है।

Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। जैसे-जैसे उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तारीखें नजदीक आ रही हैं, उसी तरह प्रदेश में सत्ता प्रतिष्ठान समाजवादी पार्टी और उसके परिवार का रार और उसके भीतर बसे द्वंद को लेकर कयास बढ़ते जा रहे हैं। खबरों के अनुसार मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, बागी तेवर अपनाते हुए अकेले लड़ने की घोषणा कर सकते हैं। सूत्रों के अनुसार अखिलेश का पूरा कैंपेन तैयार है। उन्हें इंतजार है तो सिर्फ 13 जनवरी का, जिस दिन भारत निर्वाचन आयोग चुनाव चिन्ह पर अपना फैसला सुनाएगा। अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार अखिलेश के विश्वस्त करीबी ने कहा कि चाहे निशान साइकिल हो या मोटरसाइकिल, तैयारी पूरी है।

अगर नहीं मानी पिता ने बात तो अखिलेश तोड़ देंगे बेड़ियां, अकेले लड़ेंगे चुनाव

करीबी ने जानकारी दी है कि अखिलेश खुद अखबारों, टेलीविजन और सोशल मीडिया पर होने वाले कैंपेन पर काम कर रहे हैं। कहा कि चुनाव चिन्ह में बदलाव होने पर उनके रथ में थोड़े बहुत बदलाव किए जाएंगे। अखिलेश के एक अन्य सहयोगी ने कहा कि आयोग के फैसले से इतर वो अपने पिता मुलायम सिंह यादव से आखिरी शब्द सुनने के लिए इंतजार कर रहे हैं। कहा कि उन्हें (अखिलेश को) इस बात का विश्वास है कि उनके पिता मुलायम सिंह यादव तीन महीने के लिए पार्टी पर नियंत्रण की अनुमति देंगे।
कहा कि अखिलेश अपने पिता की छाया के भीतर आगे बढ़ना चाहते हैं। इसी कड़ी में वो अपने पिता मुलायम सिंह यादव के आस पास मौजूद षड़यंत्रकारी लोगों को भी उनसे दूर करना चाहते हैं। लेकिन नेता जी उन लोगों को नहीं छोड़ना चाहते, जिसके कारण अखिलेश के पास बगावत के अलावा कोई और रास्ता नहीं बचता। कहा कि अखिलेश को उनकी पत्नी और कन्नौज से सांसद डिंपल यादव का भी समर्थन मिल रहा है।
सूत्रों के मुताबिक अपने चुनाव कार्यक्रमों की तैयारी और उससे जुड़े कामों को देखने के लिए हार्डिंग स्टीव ने भी अखिलेश को जानकारी दी है कि विकास के मुद्दे पर जनता उनके साथ है। अखिलेश के सहयोगी ने कहा कि उन्हें यह महसूस हो रहा है कि अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव से अलग होना उनके लिए चुनावों में फायदे का सौदा बन सकता है। कहा कि अखिलेश भ्रष्टाचार और अपराधिकरण के खिलाफ लड़ाई लड़ने को तैयार हैं जिसकी शुरूआत उन्होंने पार्टी से ही की है, लेकिन अगर यह सफल नहीं हुआ तो वो बेड़ियां तोड़ देंगे। ये भी पढ़ें: यूपी इलेक्शन में असलहों का कारोबार चमका, पुलिस ने किया फैक्ट्री का भंडाफोड़

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
CM akhilesh yadav ready to break tether, may be done his campaign alone for up assembly election 2017
Please Wait while comments are loading...