वाराणसी: नामांकन करने रिक्शा चलाकर पहुंचा निर्दलीय प्रत्याशी, कहा 'मैं निकला गड्डी ले के'

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

वाराणसी। विधानसभा चुनाव के इस बहती गंगा में हर कोई डुबकी लगाना चाहता है। फिर क्या कोई खास और क्या कोई आम। एक तरफ जहां बड़े-बड़े कद्दावर नेता मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए हथकंडे अपना रहे हैं। ऐसे में निर्दलीय प्रत्याशी भी कुछ कम नहीं हैं।

Read more:  केंद्रीय मंत्री ने राहुल-अखिलेश को बताया हंसों का जोड़ा, जो चुनाव बाद हो जाएंगे अलग

वाराणसी: नामांकन करने रिक्शा चलाकर पहुंचा निर्दलीय प्रत्याशी, कहा 'मैं निकला गड्डी ले के'

ये भी इस चुनावी समर में भले ही अपनी जीत दर्ज ना करा सकें लेकिन वोटरों को अपनी ओर खींचने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं। कुछ ऐसा ही देखने को मिला वाराणसी के शिवपुर विधानसभा में जहां अपना नामांकन दर्ज कराने एक निर्दलीय प्रत्याशी नामांकन स्थल तक रिक्शा चलाकर पहुंचे और तो और वो भी सवारी लेकर।

वाराणसी: नामांकन करने रिक्शा चलाकर पहुंचा निर्दलीय प्रत्याशी, कहा 'मैं निकला गड्डी ले के'

वाराणसी: नामांकन करने रिक्शा चलाकर पहुंचा निर्दलीय प्रत्याशी, कहा 'मैं निकला गड्डी ले के'

कौन हैं ये प्रत्याशी और क्या है इनका नजरिया?

वाराणसी के शिवपुर विधानसभा सीट से अपना भाग्य आजमाने वाले निर्दलीय प्रत्याशी हैं बुद्धू राम जो एक सामान्य परिवार से आते हैं। ये रिक्शा चलते हुए नामांकन स्थल तक पहुंचे और बोले 'मैं निकला गड्डी ले के'। इनका मानना है की जब देश के प्रधानमंत्री चाय बेचते-बेचते देश को प्रगति की ओर ले जा सकते हैं तो वो क्यों नहीं? उनका कहना है कि मैं भी अपने विधानसभा के विकास के लिए कुछ भी करने को तैयार हूं जिसके प्रतीक में मैं आज यहां रिक्शा लेकर आया हूं। बुद्धू राम नामांकन जुलूस में अपने समर्थकों के साथ गले में माला पहन कर सवारी लेकर आए थे।

Read more: इलाहाबाद: अपना दल को मनाने के लिए केशव मौर्य ने किया हाईवोल्टेज ड्रामा

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
An independent candidate drive Rickshaw during his nomination in Varanasi
Please Wait while comments are loading...