इलाहाबाद की फास्ट ट्रैक अदालत से 7 साल बाद मिला रेप पीड़िता को न्याय

Subscribe to Oneindia Hindi

इलाहाबाद। दुष्कर्म पीड़िता को न्याय मिलने में फास्ट ट्रैक कोर्ट ने भी 7 साल लगा दिये और जब सजा सुनाई गई तो आरोपी को सिर्फ 10 साल की जेल हुई। 7 साल से न्याय की आस में हर दिन लोगों की हेय नजरों का सामना करती युवती की आंखों में आंसू थे कि उसे न्याय मिला। लेकिन आरोपी को इतनी देर और कम सजा से असंतुष्ट नजर आई। युवती ने कहा न्याय मुझे मिला इससे खुद को मैं सम्मान की नजरों से देख सकती हूं। लेकिन यह सजा कम है और इतना लंबा समय गुजारने में हर दिन कष्टप्रद होता है।

दुष्कर्म पीड़िता को न्याय मिलने में फास्ट ट्रैक कोर्ट ने भी 7 साल लगा दिये और जब सजा सुनाई गई तो आरोपी को सिर्फ 10 साल की जेल हुई।

न्याय त्वरित और सख्त हो तो समाज में भी कड़ा संदेश जाये। मालूम हो कि करीब सात पहले नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले शख्स को फास्ट ट्रैक कोर्ट ने अब जाकर 10 साल की सजा सुनाई है। इस मामले में इलाहाबाद के नवाबगंज थाने में मुकदमा दर्ज हुआ था। मुकदमे में आरोप था कि 28 जून 2010 को अभियुक्त सुनील कुमार किशोरी का अपहरण कर ले गया है।

पुलिस ने आरोपी की तलाश की तो उसे पीड़िता के साथ पांच अगस्त 2010 को फतेहपुर से बरामद कर लिया गया। फास्ट ट्रैक कोर्ट में दोनों पक्षों की ओर से दलीलें और गवाह पेश किए गए। जिसके आधार पर कोर्ट ने अभियुक्त को दोषी करार देते हुए सजा सुनाई। मामले को लेकर परिजनो से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हमें न्यायालय पर भरोसा था। देर से ही सही पर हमारी बेटी को न्याय मिला है। ये भी पढ़े: उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए बसपा ने जारी की 50 उम्मीदवारों की सूची, इन्हें मिला टिकट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Allahabad: After 7 year a rape survivor get justice
Please Wait while comments are loading...