सपा में कलह फिर तेज, अब रामगोपाल के बेटे ने शिवपाल पर साधा निशाना

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। समाजवादी पार्टी में छिड़ी जंग थमने का नाम नहीं ले रही है। यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के बाद अब राम गोपाल यादव के बेटे और सांसद अक्षय यादव ने शिवपाल पर निशाना साधा है। उन्होंने आरोप लगाया कि शिवपाल उनके पिता की बेइज्जती करने पर तुले हैं।

Shivpal Yadav

पढ़ें: प्रियंका के राजनीति में आने के लेकर राहुल गांधी का बड़ा बयान

अक्षय यादव यूपी की फिरोजाबाद लोकसभा सीट से सांसद हैं। उनके पिता राम गोपाल यादव सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के भाई हैं। राम गोपाल ने हाल ही में परिवार में मचे घमासान में अखिलेश यादव का साथ दिया था। कहा जा रहा है कि शिवपाल को यह बात अच्छी नहीं लगी और अब वह इसका बदला ले रहे हैं।

पढ़ें: AAP की मुश्किलें बढ़ीं, एक और विधायक पर केस दर्ज

अखिलेश के करीबियों को हटाया
सपा प्रदेश अध्यक्ष का पद संभालने के साथ ही शिवपाल यादव ने अपने विरोधियों को हटाने का काम शुरू कर दिया है। शिवपाल ने पहले अखिलेश के करीबी माने जाने वाले नेताओं को दरकिनार किया उसके बाद उन्होंने रामगोपाल के भांजे अरविंद प्रताप यादव को भी पार्टी से निकाल दिया। अरविंद पर कथित तौर पर एक लैंड डील केस में शामिल होने का आरोप है।

पढ़ें: शरीफ ने अमेरिका में उठाया कश्मीर मुद्दा, उरी हमले पर चुप्पी

पहली बार शिवपाल के खिलाफ बोले अक्षय
शिवपाल पर पहली बार हमला बोलते हुए अक्षय यादव ने कहा कि अरविंग को बिना किसी वजह के पार्टी से निकाला गया है। उन्होंने कहा, 'अरविंद यादव हमारे परिवार के सदस्य हैं और वे नेताजी (मुलायम सिंह यादव) के खिलाफ कुछ नहीं कह सकते। उलटे मंत्रीजी (शिवपाल) के आवास पर ही लोगों ने उनके पिता के खिलाफ नारेबाजी की थी।'

पढ़ें; उरी आतंकी हमले ने बढ़ा दी चीन की टेंशन, लगाएगा PAK की क्लास

उन्होंने आरोप लगाया कि अखिलेश यादव का समर्थन करने वाले नेताओं को ही शिवपाल ने पार्टी से बाहर किया है या फिर उनकी जिम्मेदारियां छीनी हैं। बता दें कि शिवपाल ने सोमवार को सपा से सात नेताओं को बर्खास्त किया है, इनमें तीन एमएलसी शामिल हैं। उन सभी पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने का आरोप है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
akshay Yadav broke his silence against shivpal singh yadav over controversy.
Please Wait while comments are loading...