यूपी में हार भी गए तो 2019 के लिए मोदी के मुकाबले खड़े होंगे अखिलेश

Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया, मुलायम के इस फैसले के बाद अखिलेश की भविष्य की योजना को बड़ा झटका लगा है। वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के मद्देनजर अखिलेश यादव अपनी नजर बनाए थे, इस बीच जिस तरह से सपा के भीतर घमासान मचा है उसने उनकी महत्वाकांक्षा को त्वरित झटका तो दिया है, लेकिन अखिलेश यादव के लिए यह बड़ा मौका है जब वह खुद को स्थापित करके एक बड़े नेता के तौर पर उभर सके।

akhilesh


मोदी के समकक्ष पहुंचते अखिलेश
देश में जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उदय हुआ उस वक्त अखिलेश यादव ने अपनी अलग छाप बनाने में सफलता हासिल की है, लिहाजा यूपी की 80 लोकसभा सीटों पर अखिलेश यादव अपनी पैठ को मजबूत करने की पूरी कोशिश करेंगे और अगले ढाई वर्षों में वह खुद को राष्ट्रीय स्तर के नेता के तौर पर स्थापित कर सकते हैं। ऐसे में केंद्र की राजनीति में उभरने का अखिलेश यादव के सामने बड़ा मौका है। इस वर्ष एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करके बड़ां दांव खेला और लोगों के बीच यह संदेश देने की कोशिश की, कि वह कालाधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ जंग छेड़ चुके हैं, लेकिन उनक लिए बड़ी चुनौती आगामी बजट है, जिसमें उनके फैसले का समर्थन करने वाले उम्मीद कर रहे हैं कि वह उनकी उम्मीद पर खरे उतरेंगे और अपने वायदे को पूरा करेंगे। दूसरी तरफ अखिलेश यादव भी वर्ष 2017 में प्रवेश कर रहे हैं और बहुत बड़े बदलाव के साथ, वह लोगों के बीच यह संदेश देने में सफल हुए हैं कि भ्रष्ट और दागी छवि के नेताओं के खिलाफ उन्होंने अपनी जंग छेड़ी, ऐसे में अगर वह 2017 के चुनाव में हार भी जाते हैं तो अपने को बतौर लोकप्रिय नेता के रूप में स्थापित करने में सफल हो जाएंगे।

छवि को साधने में सफल अखिलेश
हालांकि अखिलेश यादव के शासनकाल में यूपी में जमीनी तौर पर कुछ खास बदलाव नहीं हुआ है, लेकिन अपने बयानों से जिस तरह से उन्होंने अपनी अलग छवि बनाई है उसका उन्हें जरूर लाभ होगा। परिवार के भीतर चल रही लड़ाई का अखिलेश को लंबे समय तक लाभ हो सकता है। मुश्किल के समय में भी अखिलेश यादव कैमरे के सामने मुस्कुराते रहते हैं। अखिलेश के सामने कई चुनौतियां इस वर्ष आई, जिसमें उन्हें अपनी सौतेली मां साधना का मुलायम सिंह पर बढ़ता प्रभाव, अमर सिंह से सीधी लड़ाई, चाचा शिवपाल से तीखी नोकझोंक और तमाम मंत्रियों से दो चार होना पड़ा। अखिलेश यादव ने केंद्र में में नरेंद्र मोदी के उदय के बाद 2014 में उनपर लगातार हमला जारी रखा, उन्होंने अपने बयानों में राजनीतिक गंभीरता का परिचय देते हुए खुद को अलग नेता के रूप में स्थापित किया। अखिलेश ने देशभर के राष्ट्रीय अखबारों में प्रचार देकर अपने कामों को लोगों के बीच पहुंचाया, उन्होंने युवाओं और महिलाओं को तमाम मुफ्त उपहार बांटकर अपनी लोकप्रियता में इजाफा किया। अपने पिता से इतर अखिलेश ने खुद को मुस्लिम-यादव वोटर बैंक से उपर उठाया और तमाम वर्ग के लोगों के बीच अपनी पैठ स्थापित की।

राहुल जो न कर सके अखिलेश ने कर दिखाया

अखिलेश यादव और राहुल गांधी की तुलना भी काफी रोचक है, दोनों ही नेता वंशवाद की राजनीति से आए, एक तरफ जहां राहुल गांधी अपनी पहचान बनाने के लिए जूझ रहे हैं तो दूसरी तरफ अखिलेश यादव उनसे कहीं आगे निकल चुके हैं। एक तरफ जहां मायावती अखिलेश को बबुआ कहती है और उनका मजाक उड़ाती हैं तो अखिलेश ने अपने तेवर और सूझबूझ दिखाकर इसका जवाब दिया है, लेकिन दूसरी तरफ राहुल गांधी अभी भी अपने छवि से बाहर निकलते हुए कोई ऐसा फैसला नहीं ले सके हैं, जिससे पार्टी के भीतर उनकी अलग छवि स्थापित हो सके।कांग्रेस वर्ष 2002 से सांप्रदायिकता के ही मुद्दे पर चुनाव लड़ रही है और नरेंद्र मोदी को को केंद्र में आने से रोकने के लिए तमाम कोशिशें की, लेकिन बावजूद इसके वह मुस्लिम वोटबैंक को साधन में विफल रहे हैं। मुजफ्फरनगर में 2013 में हुए दंगे, दादरी में 2015 में अखलाक की हत्या जिस तरह से अखिलेश यादव ने दंगों की सीबीआई जांच से इनकार किया और इसका ठीकरा पुलिस और अधिकारियों पर फोड़ा, यही नहीं अखलाक की हत्या के बाद उसके परिवार को बड़ी आर्थिक मदद दी और संकेत देने में सफल हुए कि वह अभी भी मुस्लिम के सबसे बड़े नेता हैं।

एक तरफ जहां 1980 तक सपा सिर्फ मुलायम सिंह यादव की थी और उन्होंने तीन बार मुख्यमंत्री पद संभाला, लेकिन दूसरी तरफ अखिलेश यादव भी पूर्वी और पश्चिमी यूपी में अपनी अलग पहचान बनाने में कामयाब हुए हैं, परिवार से इतर वह अपनी अलग पहचान बना चुके हैं और मुस्लिम समुदाय में उनकी लोकप्रियता बढ़ी है। 43 वर्ष की उम्र में अखिलेश यादव तकरीबन वह सब हासिल कर लिया है जिसे राहुल गांधी काफी पहले केंद्र की राजनीति में हासिल कर सकते थे।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Akhilesh Yadav emerged as a new face in central politics parallel to Modi. Even after lost in 2017 Akhilesh will manage to emerge in center.
Please Wait while comments are loading...