योगेश्वर दत्त ने दिखाई इंसानियत, बोले सिल्वर मेडल बेसिक कुदुखोव के परिजनों के पास ही रहने दें

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। भारतीय पहलवान योगेश्वर दत्त ने साबित कर दिया है कि उनके लिए इंसानियत से बढ़कर कुछ भी नहीं है। 2012 के लंदन ओलंपिक में कुश्ती का कांस्य पदक जीतने वाले योगेश्वर ने बुधवार को दो ट्वीट ऐसे किए जिनकी वजह से लोगों के दिल में उनकी खास जगह बन गई है।

योगेश्वर दत्त ने दिखाई इंसानियत, बोले सिल्वर मेडल बेसिक कुदुखोव के परिजनों के पास ही रहने दिया जाए

पढ़ें : कई बार कॉल के बावजूद नहीं मिली एंबुलेंस तो बेटों ने 12 किमी तक मोटरसाइकिल पर ढोई मां की लाश

योगेश्वर के कांस्य पदक को हाल ही में रजत पदक में तब्दील किया गया है क्योंकि रजत पदक विजेता रहे रूसी पहलवान बेसिक कुदुखोव को डोपिंग में संलिप्त पाया गया। हालांकि, योगेश्वर ने खुद भी इस बात को कहा था लेकिन उनकी बात को पहले तवज्जो नहीं दी गई थी। अब जांच पूरी होने के बाद उनकी बात सही निकली है।

योगेश्वर चाहते हैं कि अब उन्हें रजत पदक न दिया जाए। उन्होंने कहा कि इस पदक को बेसिक कुदुखोव के परिजनों के ही पास रहने देना चाहिए। आपको बता दें कि बेसिक कुदुखोव की एक कार एक्सिडेंट में मौत हो चुकी है।

पढ़ें : शोभा डे ने ट्विटर पर सचिन तेंदुलकर को लेकर साधा निशाना, ओलंपिक चैंपियनों को BMW कार पर कसा तंज

योगेश्वर दत्त ने दिखाई इंसानियत, बोले सिल्वर मेडल बेसिक कुदुखोव के परिजनों के पास ही रहने दिया जाए

योगेश्वर दत्त ने अपनी मानवीय संवेदना का परिचय देते हुए ट्विटर पर लिखा,'बेसिक कुदुखोव एक शानदार पहलवान थे। मौत के बाद उनका डोप टेस्ट में फेल होना दु:खद है। खिलाड़ी के रूप में मैं उनका सम्मान करता हूं।'

योगेश्वर ने इसके बाद एक और ट्वीट में लिखा,'अगर संभव हो तो सिल्वर मेडल उनके परिवार के पास ही रहने दिया जाए। यह उनके परिवार के लिए भी सम्मानपूर्ण होगा। मेरे लिए मानवीय संवेदना सर्वोपरि है।'

बेसिक कुदुखोव दो बार के ओलंपिक पदक विजेता थे। इसके साथ ही उन्होंने चार बार विश्व चैंपियन का खिताब जीता है। लंदन ओलंपिक में रजत पदक जीतने के एक साल बाद ही उनकी एक कार दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Twitter : Yogeshwar Dutt wants Besik Kudukhov's family to keep London Silver medal.
Please Wait while comments are loading...