रियो ओलंपिक : भारत की बबीता कुमारी से कांस्य पदक की भी उम्मीद ख़त्म, नहीं खेल सकेंगी रेपचेज मुकाबला

Subscribe to Oneindia Hindi

रियो डी जेनेरियो। भारत को पदक मिलने की उम्मीदों को उस वक्त झटका लगा जब महिला कुश्ती में पदक की प्रबल दावेदार मानी जाने वाली भारत की बबीता कुमार हार गईं। गुरुवार को महिला कुश्ती का वह अपना पहला ही मुकाबला हार गईं।

rio olympics 2016, rio, olympics, wrestling, babita kumari, रियो ओलंपिक 2016, रियो, ओलंपिक, कुश्ती, बबीता कुमारी

इस हार के साथ ही वह स्वर्ण या रजत पदक जीतने की रेस से बाहर हो गई थीं लेकिन कांस्य पदक की उम्मीदें फिर भी शेष थीं। लेकिन रेपचेज मुकाबले के लिए विरोधी महिला पहलवान मारिया प्रेवोलाराकी का फाइनल में पहुंचना जरूरी था, जो कि नहीं हुआ।

RIO : कुश्ती में भारतीय महिला पहलवानों ने लगाए एकदम सटीक दांव, साक्षी मलिक और विनेश फोगट जीतीं

मारिया की क्वॉर्टरफाइनल मुकाबले में हार के साथ ही बबीता को कांस्य मिलने की उम्मीदों पर भी पानी फिर गया। इससे पहले प्री-क्वॉर्टरफाइनल मुकाबले में मारिया ने बबीता को हराकर अगले दौर में प्रवेश किया था।

रियो ओलंपिक में खुला भारत का खाता, महिला पहलवान साक्षी मलिक ने दिलाया कांस्य पदक !

ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता और विश्व चैंपियनशिप की कांस्य पदक विजेता बबीता कुमारी से भी साक्षी मलिक की तरह कांस्य पदक जीतने की उम्मीदें थीं लेकिन किस्मत ने उनका साथ ​नहीं दिया।

IOA के गुडविल अंबेसडर सलमान खान रियो ओलंपिक में भाग लेने वाले हर भारतीय खिलाड़ी को देंगे 1 लाख रुपए

26 वर्षीय बबीता को मुकाबले में बेहतर वापसी करने के लिए जाना जाता है। अगर रेपचेज मुकाबला होता और उसके दोनों राउंड में भारतीय महिला पहलवान की किस्मत साथ देती तो यकीनन भारत को दूसरा पदक मिल जाता। साक्षी ने बुधवार को 58 किग्रा भारवर्ग में रेपचेज के जरिये ही कांस्य पदक जीता था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
wrestler babita kumari lost 53 kg freestyle match in olympics
Please Wait while comments are loading...