'पर्ल सिटी' ने बांहे फैलाकर किया बेटी सिंधु का स्वागत, तस्वीरें..

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। भारत खेलरत्न पीवी सिंधु ने कहा कि उन्हें अपनी मेहनत पर पूरा भरोसा था इसलिए आज उनके हाथ में मेडल है। अगर आप किसी भी चीज को शिद्दत से चाहते हैं तो कुछ भी असंभव नहीं है। बस एक बार आपको अपने आप ट्रस्ट करना होता है।

जानिए क्‍या खाती-पीती हैं 'सिंधु' जिससे रहती हैं चीते जैसी एक्टिव?

आपको बता दें कि शटलर क्वीन सिंधु ओलंपिक के फाइनल में पहुंचकर रजत पदक हासिल करने वाली भारत की पहली बैडमिंटन खिलाड़ी हैं।

गोपीचंद की अकादमी में खिलाड़ी नहीं कहते-मुझे, वेज पसंद है

आईये स्लाइडों के जरिये एक नजर डालते हैं पीवी सिंधु की उन तस्वीरों पर जब उन्हें 'पर्ल सिटी' यानी हैदराबाद के लोगों ने दिल से सलाम किया..

हैदराबाद में भव्य स्वागत

सिंधु का हैदराबाद में भव्य स्वागत हुआ।

सफलता की चमक

सफलता की चमक क्या होती है इसे कोई भी पीवी सिंधु के चेहरे को देखकर पता कर सकता है।

अपने आप पर और अपनी मेहनत पर भरोसा

सिंधु ने कहा कि मुझे अपने आप पर और अपनी मेहनत पर भरोसा था।

मैंने अपना बेस्ट दिया

सिंधु ने कहा मैंने अपना बेस्ट दिया इसलिए सिल्वर मेडल मेरे गले में है।

उनके परिवार और कोच पुलेला गोपीचंद का त्याग

सिंधु ने कहा कि उनकी सफलता के पीछे उनकी मेहनत, उनके परिवार और कोच पुलेला गोपीचंद का त्याग है।

हर वक्त अपने गेम के बारे में सोचा

सिंधु ने कहा मैंने हर वक्त अपने गेम के बारे में सोचा, ना कि मेडल के बारे में।

मेरा ल्क्ष्य मेरा खेल

मेरा ल्क्ष्य मेरा खेल था, मुझे मालूम था कि अगर मैं अच्छा खेलूंगी तो मेडल तो मिल ही जायेगा।

मैं अपना बेस्ट दूं

ये मेरा पहला ओलंपिक था और मेरी पूरी कोशिश थी कि मैं अपना बेस्ट दूं।

मेरा देश मेरे लिए खुश है

मेरा देश मेरे लिए खुश है, ये मेरे लिए काफी बड़ी बात है।

कड़ी मेहनत ही सफलता की कुंजी

मैं सिर्फ इतना कह सकती हूं कि कड़ी मेहनत ही सफलता की कुंजी है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Rio Olympics silver medalist P.V. Sindhu, who returned home Monday to a rousing reception, said she believed in herself and did not think of medals. here are some pictures, have a look.
Please Wait while comments are loading...