यह पैरालंपिक महिला एथलीट गोल्ड मेडल जीतने के बाद चाहती है अपनी मौत

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। ब्राजील के रियो डी जेनेरियो में चल रहे पैरालंपिक खेलों में एक एथलीट ऐसी आई हैं जो स्वर्ण पदक जीतने बाद अपनी मौत चाहती हैं। यह वह मजबूरीवश चाहती हैं।

Marieke Vervoort

ब्राजील में पैरालंपिक खेलों का हुआ उद्घाटन, 159 देशों के खिलाड़ी ले रहे हैं हिस्सा

यह है पूरी वजह

दरअसल, बेल्जियम की मारीके वेरवूर्ट पैराट्राइथलॉन एथलीट हैं और वह पैरालंपिक खेलों में प्रतिभाग कर रही हैं। रीढ़ की हड्डी से जुड़ी गंभीर बीमारी से जूझ रहीं मारीके की जिंदगी बद से भी बदतर हो चुकी है। वह केवल व्हील चेयर तक ही सिमटकर रह गई हैं। वह वर्ष 2000 से इस बीमारी से ग्रसित हैं।

पहले स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं

व्हीलचेयर स्प्रिंटर 37 वर्षीय मारीके वेरवूर्ट पैरालंपिक खेलों में इससे पहले स्वर्ण पदक जीत भी चुकी हैं। उन्होंने यह मेडल 2012 लंदन खेलों की 100 मीटर रेस में जीता था।

Marieke Vervoort

VIDEO : बायोपिक रिलीज से पहले ही सुशांत सिंह के सामने गि​ड़गिड़ाए धोनी, जानिए क्यों

मारीके जिस बीमारी से ग्रसित हैं, वह लाइलाज है। वह इसकी वजह से रात में सिर्फ 10 मिनट ही सो सकती हैं। नींद पूरी न हो पाने की वजह से कई बार वह बेहोश हो जाती हैं। 2016 पैरालंपिक खेल उनका आखिरी टूर्नामेंट है।

बेल्जियम में इच्छामृत्यु वैध

बेल्जियम में अगर कोई इच्छामृत्यु चाहता है तो वह ले सकता है। वहां यह वैध है। इस कानून को बेल्जियम में 2002 में कानूनी तौर पर मंजूर किया गया था। हालांकि, इसके लिए तीन डॉक्टर्स की इजाजत चाहिए होती है। इस लिहाज से देखा जाए तो मारीके इच्छामृत्यु ले सकती हैं।

Marieke Vervoort

PICS: धोनी की पत्नी साक्षी संग यह रोमांटिक तस्वीर तेजी से हो रही है वायरल, जानिए वजह

पढ़ें मारीके का दर्द

मीडिया को मारीके ने बताया कि, 'मेरी जिंदगी का हर दिन जद्दोजहद के ​बीच गुजरता है। कई बार दर्द असहनीय हो जाता है। हर कोई मुझे स्वर्ण पदक के साथ मुस्कुराता देखता है लेकिन उसके पीछे के अंधेरे को नहीं देख सकता। मैं बहुत ही बुरी स्थिति में हूं।'

 

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
rio 2016 Paralympics: Athlete Marieke Vervoort 'considering euthanasia after Games' because of debilitating illness.
Please Wait while comments are loading...