रियो ओलंपिक 2016: हार के बाद भावुक पेस ने कहा, मैं एक सॉफ्ट टारगेट हूं

Subscribe to Oneindia Hindi

रियो डि जेनेरो। भारतीय खेल प्रेमियों को बड़ा झटका तब लगा, जब भारतीय टेनिस स्टार लिएंडर पेस और उनके जोड़ीदार रोहन बोपन्ना पुरुष युगल के पहले दौर में ही बाहर हो गये। इन दोनों से जीत की उम्मीद किये बैठे लोगों के लिए ये बात पचाये नहीं पच रही है लेकिन जितना कष्टकारी लोगों के लिए ये हार है उससे कहीं ज्यादा दुख भरी बात ये खुद लिएंडर पेस के लिए है।

रियो ओलंपिक 2016: बोपन्ना ने लिएंडर पेस के साथ खेलने से किया था इंकार

जिन्होंने हार के बाद भावुक होकर कहा कि वो एक 'सॉफ्ट टारगेट' बन गये हैं इसलिए वो लोगों के निशाने पर बने रहते हैं। पेस का इशारा उन खबरों के लिए था जिसमें कहा गया था कि वो बोपन्ना के साथ कमरा साझा नहीं करना चाहते थे। पेस ने कहा कि मुझे पता है कि काफी मनगढंत कहानियां बनाई जा रही हैं।

महिमा से प्यार, रिया से तकरार और भूपति से पंगा फिर भी 'पेस' हैं कमाल

पेस ने कहा कि लोगों को पता नहीं कि ग्रैंड स्लैम और ओलंपिक खेलने के लिए एक खिलाड़ी को कितनी मेहनत करनी होती है। मैं इस समय काफी अपसेट हूं, इस उम्र में खेलने के लिए, फिटनेस के लिए कितनी मेहनत की जरूरत होती है, ये केवल में ही जानता हूं। मुझे हमेशा इस बात का मलाल रहेगा कि वो अपने ओलंपिक करियर में कुछ चीजें पूरी नहीं कर पाये जिनमें से एक है 'युगल' में कभी भी पदक ना जीत पाना।

पढ़े: रियो ओलंपिक में सुशील कुमार का पत्ता काटने वाले पहलवान नरसिंह यादव की बायोग्राफी

मालूम हो कि शनिवार को ओलंपिक टेनिस सेन्टर पर खेले गए मैच में पेस-बोपन्ना की जोड़ी को पोलैंड के लुकास कुबोट और मारसिन माटकोव्सकी की जोड़ी ने मात दी। पौलेंड की जोड़ी ने एक घंटे 24 मिनट तक चले मुकाबले में भारतीय जोड़ी को 6-4, 7-6 (6) से हराकर उनकी चुनौतियों को समाप्त कर दिया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
An emotional Leander Paes did not hide his disappointment after losing the Rio Olympics first round men's doubles match with Rohan Bopanna stating that he has become a soft target and that is the reason why people are taking potshots at him.
Please Wait while comments are loading...