कोहली को 'विराट' साबित करने वाले दो लम्हों का खुलासा

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट में टेस्ट टीम के कप्तान विराट कोहली को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। कोहली आखिरकार कैसे इस मुकाम तक पहुंचे, उन्होंने 9 साल की उम्र में ही अपनी बुलंदी का अहसास अपने कोच को करा दिया था।

Virat Kohli

दरअसल विराट कोहली को जब उनके पिता राजकुमार शर्मा की कोचिंग एकेडमी में लेकर गए थे तो उनका इंप्रेशन कुछ खास जमा नहीं। लेकिन टेस्ट के लिए हुए मैच में कोहली के दो बेहतरीन एक्शन ने उनकी सफलता की कहानी लिख दी।

#UriAttack: आर्मी कैंप में हुए आतंकी हमले की इनसाइड स्टोरी

एक 'थ्रो' जिसने बढ़ाई कोहली की पैठ
बाउंड्री के पास से विकेटकीपर के हाथ में सीधा थ्रो फेंकना और मिडविकेट के ऊपर से फ्लिक करके छक्का लगाना- ये वो दो लम्हे हैं जिन्होंने कोच राजकुमार शर्मा और उनके सहायक सुरेश बत्रा को यह यकीन दिला दिया था कि 9 साल के कोहली में जबरदस्त प्रतिभा और क्रिकेट का जुनून है। इस बात का खुलासा हाल ही में आई विराट कोहली की जीवनी से हुआ है।

पढ़ें: उरी अटैक से गुस्से में सेना, PAK को ऐसे देगी करारा जवाब

कोहली की जीवनी में हुआ खुलासा
विराट की जीवनी- ड्राइवेन: द विराट कोहली स्टोरी (Driven: The Virat Kohli Story) में लेखक विजय लोकपल्ली ने लिखा कि राज कुमार और उनके सहायक इस बच्चे के बेहतरीन थ्रो को देखकर दंग रह गए थे। यह थ्रो उन्होंने सीमा रेखा के पास से फेंका था जो सीधा विकेटकीपर के हाथों में पहुंचा था। किताब में जिक्र किया गया है कि 30 मई 1998 को विराट के पिता उन्हें राज कुमार शर्मा की वेस्ट दिल्ली क्रिकेट अकादमी में ले गए थे।

पढ़ें: गैंगरेप के बाद महिला को चलती ट्रेन से नीचे फेंका, हालत गंभीर

पहली नजर में इंप्रेशन नहीं जमा पाए थे विराट
किताब में लिखा गया है, 'पहली नजर में विराट कोहली में कोच को कुछ खास प्रतिभा नजर नहीं आई। वह साधारण सा लड़का था, जो चेहरे से बेहद सीधा-सादा लगता था। वह जुनूनी था लेकिन उसमें कुछ खास नहीं नजर आया।' यह बयान कोच राजकुमार शर्मा के हवाले से लिखा गया है।

#UriAttack: पर्रिकर ने सेना को दिए कड़े कदम उठाने के निर्देश

दूसरा मौका- जब विराट ने दिखाया दम
लेखक ने किताब में दूसरी घटना का जिक्र करते हुए बताया कि वेस्ट दिल्ली क्रिकेट अकादमी में आने के बाद कोहली अंडर-14 मैच खेल रहे थे। जहां उनके बल्ले से निकले एक शानदार छक्के ने कोच को हैरान कर दिया। सुरेश बत्रा ने बताया कि मैच प्लेमेकर्स एकेडमी के खिलाफ था। मैटिंग विकेट वाले मुकाबले में विराट ने गेंद को पिक किया और मिड-विकेट के ऊपर से छक्का जड़ा। 9 साल के लड़के के लिए यह एक बेहतरीन शॉट था।

इस घटना ने कोच राजकुमार को और प्रभावित किया। उन्हें इस बात का भरोसा हो गया कि इस लड़के पर मेहनत करने की जरूरत है और यह आगे चलकर बेहतरीन क्रिकेटर साबित होगा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Two moments which made virat kohli a star disclosed in a book.
Please Wait while comments are loading...