भारत की जीत के लिए शाहरुख ने कमेंट्री बॉक्‍स में किया टोटका

Subscribe to Oneindia Hindi

ओवल। चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में शाहरुख खान कमेंट्री के लिए पहुंचे और इस दौरान उन्होंने भारतीय टीम के लिए टोटका भी इस्तेमाल किया। दरअसल जब 9 ओवर तक पाकिस्तान का एक भी विकेट नहीं गिरा तो शाहरुख ने कहा कि मेरी और सहवाग की कोई भी भविष्यवाणी सही नहीं जा रही है, ऐसे में हमें एक दूसरे से सीट बदल लेनी चाहिए। इसके बाद शाहरुख खान और वीरेंद्र सहवाग ने एक दूसरे से सीट बदल ली, हालांकि शाहरूख खान के इस टोटके के बाद भी भारत को विकेट नहीं मिला।

इसे भी पढ़ें- चैंपियंस ट्रॉफी 2017: यूनिस ख़ान ने कहा-'भारत का दामाद' दिलाएगा पाकिस्तान को जीत

मेरा बेटा किसी भी टीम को समर्थन करने लगता है

मेरा बेटा किसी भी टीम को समर्थन करने लगता है

मैच के दौरान शाहरुख खान ने कमेंट्री बॉक्स में वीरेंद्र सहवाग और आकाश चोपड़ा के साथ कमेंट्री कर रहे थे, इस दौरान उन्होंने कई अनुभव साझा किए। अपने छोटे बेटे अब्राहम के बारे में शाहरुख ने बताया कि उसे आईपीएल में टीमों के बारे में कोई जानकारी नहीं है, तो वह किसी भी टीम को अपना सपोर्ट देने लगता है, मेरा बेटा किसी भी टीम को साथ देने लगता है, उसे टीमों में फर्क नहीं पता है।

स्कूल के दिनों में करते थे विकेट कीपिंग

स्कूल के दिनों में करते थे विकेट कीपिंग

दिल्ली में अपने स्कूल के दिनों के बारे में अनुभव साझा करते हुए शाहरुख ने बताया कि उस वक्त दिल्ली के फिरोजशाह कोटला में टेस्ट मैच खेला जाता था, मैं विकेट कीपर था, मेरा अंडर 19 में चयन हुआ था, उस वक्त कपिल देव से मेरी पहली बार मुलाकात हुई थी, उन्होंने काफी अच्छे से मुझसे मुलाकात की थी और मुझे थम्सअप भी पिलाया था। उस वक्त आकाश चोपड़ा ने कहा कि जो विकेट कीपर होता है उसे उंगलियों में काफी चोट लगती है, जिसपर शाहरुख ने कहा कि मेरी उंगलियां टेढ़ी हो गई थी। जिसके बाद आकाश ने कहा कि इसका मतलब है कि आप बेहतर विकेट कीपर थे।

पांड्या को बताया पसंदीदा खिलाड़ी

पांड्या को बताया पसंदीदा खिलाड़ी

टीम इंडिया में अपने पसंदीदा खिलाड़ियों के बारे में बात करते हुए शाहरुख ने कहा कि मुझको यंगस्टर्स में हार्दिक पांड्या काफी अच्छा लगता है, बुमराह मुझे काफी प्रभावित करता है। धोनी और विराट को हर कोई पसंद करता है। वहीं टीम इंडिया के अहम खिलाड़ी केदार जाधव के बारे में शाहरुख ने कहा कि वह बेहतर खिलाड़ी हैं और काफी कंट्रोल खेल दिखाते हैं। उन्होंने कहा कि भारत की टीम काफी मजबूत टीम है।

पुराने गाने सुनाकर बहलाते थे सहवाग

पुराने गाने सुनाकर बहलाते थे सहवाग

शाहरुख खान के साथ अपने अनुभव के बारे में सहवाग ने बताया कि 2005 में एक कार्यक्रम के दौरान शाहरुख खान आए थे, उस वक्त अपने बेटे के साथ आए थे, जब वह आए तो लोग उनके पीछे दोड़ने लगे और हर कोई उनकी तरफ देख रहा था, लेकिन लोग यह भूल गए कि उनके साथ उनका बेटा भी आया है। उस वक्त मैं उनके बेटे के साथ बैठा था और मैंने उसे पुराने गाने सुनाए थे। सहवाग ने बताया कि मैं उसे पुराने गाने सुनाकर उसका दिल बहला रहा था। मैंने पूछा आप पापा की फिल्में देखते हैं, उसने बताया हां, शूटिंग पर भी जाता हूं। मैंने उनसे एक वायदा लिया था कि आप उनसे कहें कि आप स्मोकिंग छोड़े।

 मेरे बेटे को रोमांस सहवाग ने सिखाया

मेरे बेटे को रोमांस सहवाग ने सिखाया

इस बाद पर शाहरुख ने कहा कि टीवी पर यह सुनने के बाद वह जरूर मुझसे घर जाने के बाद कहेगा कि मैं स्मोकिंग छोड़ दूं। शाहरुख ने कहा कि मैं जल्द ही स्मोकिंग छोड़ दुंगा। उन्होंने कहा कि मेरे बेटे को रोमांस सहवाग ने गाना सुनाकर सिखाया है। सहवाग गाना गाकर रन बनाता है, गाना सुनाकर बच्चे को भी बहलाता है। क्रिकेट की जानकारी क्रिकेटर से ज्यादा किसी को नहीं होती है, मुझे पता है कि जब खिलाड़ी हारता है तो उसे कैसा महसूस होता है वह मुझे पता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Shahrukh Khan does everything to favor India against Pakistan. He shares his cricketing experience in the commentary box.
Please Wait while comments are loading...