Birthday Special: 'नज़फ़गढ़ के नवाब' या 'मुल्तान के सुल्तान' क्या हैं सहवाग?

आज टीम इंडिया के पूर्व विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग का जन्मदिन है,ऊपर वाले की खास नेमत वाले इस क्रिकेटर के योगदान को भारत कभी नहीं भूल सकता है।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। आज भले ही क्रिकेट के पिच से पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग दूर हों लेकिन ना तो वो लोगों के दिल से दूर हुए हैं और ना ही क्रिकेट के जिक्र से। क्रिकेट की कोई भी किताब बिना सहवाग के अधूरी है। आज भारत के इस विस्फोटक और खब्बू बल्लेबाज का 38वां जन्मदिन है।

अनिल कुंबले ने हार्दिक पांड्या के बारे में कही बेहद खास बात...

पाकिस्तान के शोएब अख्तर हों या फिर आस्ट्रेलिया के मैकग्राफ...क्रिकेट की दुनिया का कोई भी ऐसा स्टार गेंदबाज नहीं है जिसको कि सहवाग ने धूल ना चटाई हो।

'47 बाद सबसे अच्छी बात...सचिन इधर पैदा हुआ उधर नहीं'

ऊपर वाले की खास नेमत वाले इस क्रिकेटर के योगदान को भारत कभी नहीं भूल सकता है।

सचिन नहीं, जानिए कौन है वो जो रेवड़ी की तरह बांटता है बीएमडब्ल्यू?

आईये सचिन तेंदुलकर का क्लोन कहे जाने वाले इस महान क्रिकेटर के बारे में जानते हैं कुछ खास बातें तस्वीरों के जरिए...

'ज़ेन मास्टर' वीरू

20 अक्टूबर 1978 को जन्में वीरू की छवि विस्फोटक ओपनर के रूप में रही है।'आधुनिक क्रिकेट के 'ज़ेन मास्टर' वीरू को 'नज़फ़गढ़ के नवाब' और 'आधुनिक क्रिकेट के ज़ेन मास्टर' के रूप में भी जाना जाता है।

स्पिन गेंदबाज़ी

स्पिन गेंदबाज़ी वे दायें हाथ के आक्रामक सलामी बल्लेबाज तो हैं ही किन्तु आवश्यकता के समय दायें हाथ से ऑफ स्पिन गेंदबाज़ी भी करते थे और भारत के कई नाजुक मौके पर उनका ये गुण काफी काम आया है।

'विजडन लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर'

सहवाग ने भारत की ओर से पहला एकदिवसीय मैच 1999 में और पहला टेस्ट मैच 2001 में खेला था, वो पहले ऐसे भारतीय खिलाड़ी हैं जिन्हें अप्रैल 2009 में 'विजडन लीडिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर' खिताब से नवाज़ा गया था।

'मुल्तान का सुल्तान'

वीरेंद्र सहवाग ने अपना पहला अन्तरराष्ट्रीय मैच 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ खेला था। वीरू ने सबसे ज्यादा पिटाई पाक बॉलरों की ही की है। भारतीय टीम 2004 में जब पाकिस्तान दौरे पर गई तो सहवाग ने मुल्तान में 309 रन बनाकर भारतीय क्रिकेट में नया इतिहास रचा था। वह टेस्ट मैचों में तिहरा शतक जड़ने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बने थे। इस पारी में वीरू ने सिर्फ 375 गेंद खेली और 39 चौकों के साथ छह छक्के जड़े। इस तूफानी पारी से उन्हें 'मुल्तान का सुल्तान' नाम से पुकारा जाने लगा।

अर्जुन अवार्ड, पद्मश्री

2008 में चेन्नई में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 319 रन की पारी खेली, जो आज भी भारत की तरफ से टेस्ट मैचों में किसी बल्लेबाज का सर्वाधिक स्कोर है। सहवाग को बेहतरीन योगदान के लिए उन्हें अर्जुन अवार्ड, पद्मश्री, आइसीसी 2010 का सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर खिताब से नवाजा जा चुका है।

'नज़फ़गढ़ के नवाब'

दिल्ली के नजफगढ़ के रहने वाली वीरू को 'नजफगढ़ का तेंदुलकर' और 'नजफगढ़ का नवाब' कहा जाता है। सहवाग ने अपनी पीढ़ी के अन्य युवाओं की तरह तेंदुलकर जैसा बनने का सपना पाला था। अपने पहले टेस्ट मैच में उन्हें तेंदुलकर के साथ साझेदारी निभाने का मौका मिला, जिसमें इन दोनों ने शतक जमाए थे। सहवाग को सचिन का क्लोन कहलाने का मौका मिला था जिसे कि वो अपनी लाइफ का सबसे खूबसूरत तमगा मानते हैं, हालांकि उन्होंने बाद में अपनी बैटिंग स्टाइल में काफी चेंज किया और खब्बू बल्लेबाज बन गए।

गांगुली ने किया था त्याग

अपने संन्यास के मौके पर सहवाग ने कहा कि मैं गांगुली के त्याग को कभी नहीं भूल पाऊंगा। टेस्ट में क्रिकेट में मुझे जगह देने में उनका अहम रोल रहा है। मैंने टेस्‍ट क्रिकेट में जो तिहरा शतक जमाया है उसका श्रेय सौरव को जाता है। सहवाग ने कहा कि सौरभ गांगुली ने मुझपर भरोसा किया और अपना स्थान (ओपनिंग) मुझे दिया जबकि वो खुद बेस्ट ओपनर थे।

जन्मदिन का बहुत सारी शुभकामनाएं

भारतीय टीम का ये पूर्व खिलाड़ी आज भी ट्विटर पर चौकों-छक्कों की बारिश कर रहा है। उनका क्रिकेट में दिए अहम योगदान का भारत हमेशा कर्जदार रहेगा। करीब 15 साल तक पूरी दुनिया को अपने खूबसूरत बैटिंग अंदाज से इंटरटेन करने वाले इस महान खिलाड़ी को हमारी ओर से भी जन्मदिन का बहुत सारी शुभकामनाएं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Virender Sehwag (born 20 October 1978) is aggressive right-handed opening batsman and a part-time right-arm off-spin bowler, he played his first One Day International in 1999 and joined the Indian Test team in 2001.
Please Wait while comments are loading...