DRS को लेकर ICC का बड़ा बयान, कुंबले निभा सकते हैं अहम भूमिका

भारत और इंग्लैंड के बीच नौ नवंबर से शुरू हो रही पांच मैचों की टेस्ट श्रृंखला में बीसीसीआई प्रायोगिक तौर पर डीआरएस प्रणाली का उपयोग करेगी।

Subscribe to Oneindia Hindi

दुबई| आईसीसी के महाप्रबंधक ज्योफ एलारडाइस ने डीआरएस को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। उन्होंने एक मीडिया मीट में कहा कि डीआरएस को अपनाने में भारतीय कोच अनिल कुंबले अहम रोल निभा सकते हैं। एक वो ही हैं जो बीसीसीआई को मना सकते हैं।

इंग्लैंड के खिलाफ चुनी गई टीम इंडिया की 5 खास बातें

आपको बता दें कि भारत और इंग्लैंड के बीच नौ नवंबर से शुरू हो रही पांच मैचों की टेस्ट श्रृंखला में बीसीसीआई प्रायोगिक तौर पर डीआरएस प्रणाली का उपयोग करेगी लेकिन इस प्रकिया को पूर्ण रूप से उसके अपनाने में अभी भी संशय बरकरार है इसलिए ज्योफ एलारडाइस ने अपनी गेंद अब कुंबले के पाले में डाली है।

फरवरी 2017 में होगी बैठक

मालूम हो कि डीआरएस को लेकर आईसीसी फरवरी 2017 में एक मीटिंग करने वाली हैं और उसी में इस मुद्दे पर फैसला लिया जाएगा।

क्या है डीआरएस

इस तकनीक के जरिए फील्ड अंपायर के फैसले के खिलाफ कोई भी टीम अपील कर सकती है। यह तकनीक मुख्य रूप से एलबीडब्ल्यू, स्निक आदि फैसलों में कारगर साबित हो सकती है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
ICC general manager Geoff Allardice said India's head coach Anil Kumble played an important role in convincing a reluctant BCCI to adopt the Decision Review System (DRS) on a trial basis in the upcoming home Test series against England.
Please Wait while comments are loading...