चीनी सामानों की बिक्री हुई बहुत कम, कहा- खरीदेंगे देसी सामान

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। राजस्थान की राजधानी जयपुर में चीनी सामानों के बहिष्कार का असर बड़े स्तर पर दिख रहा है। व्यापारियों को भी काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है।

 

china

जम्मू और कश्मीर स्थित उरी में भारतीय सेना के बेस कैंप पर हुए हमले के बाद सड़क से सोशल मीडिया तक यह कैंपेन चला कि 'पाकिस्तान के दोस्त चीन' के सामानों का बहिष्कार किया जाए।

भारत में निर्मित होगा दुनिया का सबसे एडवांस्‍ड फाइटर जेट एफ-16, पाक देखेगा मुंंह!

एक व्यापारिक संगठन ने बताया है कि दिवाली के समय में सबसे ज्यादा बिकने वाली सजावट की लाइटों की बिक्री में करीब 30-40 फीसदी की कमी आई है।

पड़ रहा है असर

इतना ही नहीं इसका असर अन्य इलेक्ट्रॉनिक सामानों की बिक्री पर पड़ा है जो चीन के बने है।

फेडरेशन ऑफ राजस्थान ट्रेड एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने एक आंतरिक सर्वे के हवाले से जानकारी दी कि चीनी सजावटी झालरों और अन्य समान उत्पादों की बिक्री में 30-40 फीसदी की कमी आई है।

चीन के साथ युद्ध के 44 वर्ष पूरे और लद्दाख में चीनी सेना

एलसीडी और अन्य चीन निर्मित उत्पादों की मांग मं 10-15 फीसदी की कमी हुई है साथ ही इसका असर मोबाइलों पर भी पड़ा है। जिसके कारण 2 फीसदी कमी उनकी बिक्री में भी आई है।

भारतीय सामानों को तवज्जो

जयपुर व्यापार महासंघ के सचिव अजय विजयवर्गीय ने कहा कि चाहे सजावटी सामान हो या कोई और वस्तु लोग चीन निर्मित सामानों से ज्यादा तवज्जो भारतीय सामानों को दे रहे हैं।

भारत को जवाब देने के लिए पा‍क और चीन के बीच अब तक की सबसे बड़ी डिफेंस डील

उन्होंने कहा कि बेशक इस समय बिक्री कम है। अधिकतर ग्राहक भारतीय लाइट मांग रहे हैं।लउन्होंने बताया कि बीते साल दिवाली में 10 लाख का ऑर्डर दिया था लेकिन इस बार इतना ऑर्डर नहीं किया है।

पेशे से चार्टड एकाउंटेंट संदीप गुप्ता जो रोज कुछ घंटे बाजारों में जाकर लोगों से अपील कर रहे हैं कि चीनी सामानों का बहिष्कार करें।

इन सामानों को खरीदने से बच रहे हैं लोग

उन्होंने बताया कि चीन से बड़ी संख्या में हिन्दू आदर्शों, देवी, देवताओं की मूर्तियां, जो सस्ती होती थीं और उन पर ऐसा कोई निशान नहीं होता था कि वो चीन निर्मित हैं , ऐसी वस्तुओं को खरीदने से लोग अब बच रहे हैं।

चल गया पता, किन देशों से हैक किए 32 लाख एटीएम कार्ड

संदीप एक जीप पर ढेर सारे बैनर लेकर चलते हैं। जिस पर लिखा होता है 'शहीदों को श्रद्धांजलि दो, चीन के सामानों को तिलांजलि दो।'

एक छात्र भाष्कर वर्मा ने का कि हम क्यों पाकिस्तान के दोस्त चीन का सामान खरीदें। हम देसी चीजें खरीदेंगे।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Boycott call: Chinese goods sale dips up to 40% in Jaipur
Please Wait while comments are loading...