पाक के अखबार ने सरकार, सेना से पूछा- क्यों हाफिज और अजहर के खिलाफ नहीं कर रहे हैं कार्रवाई?

Subscribe to Oneindia Hindi

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के एक अखबार ने पाकिस्तान की सेना और सरकार से पूछा है कि क्यों नहीं जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अजहर और जमात-उत-दावा के हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है?

क्यों इनके खिलाफ कोई कार्रवाई राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बन सकती है?

pakistan

जब रियल लाइफ में हुई कछुए और खरगोश की दौड़, 2 दिन में 1 करोड़ लोगों ने देखा वीडियो

प्रेस को लेक्चर दे रही है सरकार

बता दें कि पाक के अखबार द नेशन में प्रकाशित सम्पादकीय में लिखा गया है कि हाफिज और अजहर के खिलाफ कार्रवाई करने की जगह सेना और सरकार प्रेस को लेक्चर दे रही है।

लिखा गया है कि वह बहुत ही खराब दिन था जब सेना और सरकार के उच्चस्तरी लोग प्रेस को उनका काम करने के तरीके पर लेक्चर देने के लिए मिले थे।

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आया यूपी का ओपिनियन पोल, बीजेपी को फायदा

सम्पादकीय में लिखा गया है कि सिरिल अलमेडा की रिपोर्ट को बनावटी और काल्पनिक बताया है लेकिन सेना और सरकार के उच्च स्तरीय लोगों ने इस बारे में कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया कि क्यों नेशनल एसेम्बली के सदस्य बैन पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

ऐसा क्यों है?

या ऐसा क्यों है कि हाफिज सईद और मसूद अजहर के खिलाफ होने वाली कोई कार्रवाई राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा है हो सकता है? या फिर पाकिस्तान क्यों अलग-थलग पड़ता जा रहा है।

चीन तैयार कर रहा बेबी रिएक्टर, विवादित SCS में करेगा स्थापित

इन सबके बजाय सरकार और सेना की यह हिम्मत कैसे हो गई कि वो मीडिया को यह बताएं कि वे अपना काम कैसे करें?

उनकी यह हिम्मत कैसे हो गई कि सम्मानित पत्रकार के साथ अपराधी जैसा सुलूक हो और उन्हें यह तय करने का अधिकार या योग्यता या फिर एकाधिकार कैसे मिल गया कि देश का राष्ट्रीय हित क्या है?

लिखा गया है कि अलमेडा के साथ प्रेस खड़ा है। हम सभी एकजुट हैं।

भारत ने कहा पाक के परमाणु हथियार दुनिया के लिए बड़ा खतरा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
'Why can't you act against Masood Azhar and Hafiz Saeed?' Pakistan daily asks Islamabad
Please Wait while comments are loading...