भारत के संयम को कमजोरी न समझे पाक, दुनिया कर देगी किनारे!

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

वाशिंगटन। अमेरिकी मीडिया ने पाकिस्‍तान को नसीहत या यूं कहें कि चेतावनी दी है तो गलत नहीं होगा। अमेरिकी मीडिया ने कहा है कि पाकिस्‍तान, भारत के संयम और फिर इसके आत्‍मसंयम को कमजोरी न समझे और न ही हल्‍के में ले।

us-media-pakistan-warning

पढ़ें-पाक को ठिकाने लगाने का एकदम सही बैठ रहा पीएम मोदी का दांव!

अछूत हो जाएगा पाक

भारत के इस रुख के बाद पूरी दुनिया पाक से किनारा कर सकती है और उसके साथ किसी 'अछूत' या 'नीची जाति वाले व्‍यक्ति की तरह' बर्ताव किया जाने लगेगा। पाक को भारत के साथ सहयोग करने की नसीहत पाक को दी गई है।

पढ़ें-भारत के रुख से डरा पाक, WTO से लगाई भारत को रोकने की गुहार

दुनिया कन्‍नी काटने लगेगी

लीडिंग अमेरिकी डेली वॉल स्‍ट्रीट जनरल में स्टिमन साउथ एशिया प्रोग्राम के डिप्‍टी डायरेक्‍टर समीर लालवानी ने एक आर्टिकल लिखा है। इस आर्टिकल में ही पाक को यह चेतावनी दी गई है।

इसमें लिखा है, 'भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाक के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया हुआ है। अगर उनका यह रुख आगे जारी रहा तो फिर पाक के लिए मुश्किलों का पहाड़ खड़ा हो सकता है। हो सकता है दुनिया पाक से कन्‍नी काटने लगे।'

वॉल स्‍ट्रीट जनरल के मुताबिक पहले से ही कुछ देशों ने पाक का बहिष्‍कार किया हुआ है।

पढ़ें-पाक को जवाब देने के लिए कमर कस रही आईएएफ

भारत का एक्‍शन होगा वाजिब

वॉल स्‍ट्रीट जनरल ने लिखा है कि पाक सीमा के दूसरी तरफ से भारत में हथियार, गोला बारूद और आतंकवादी भेजना जारी रखता है। इसके बाद अगर भारत कोई भी एक्‍शन लेता तो पूरी तरह से वह तर्कसंगत होगा।

वॉल स्‍ट्रीट जनरल ने पीएम मोदी के उस रुख की भी तारीफ की है जिसमें उन्‍होंने पाक के खिलाफ कोई मिलिट्री एक्‍शन न लेने का फैसला किया।

पढ़ें-पाक से वापस लिया जा सकता है मोस्‍ट फेवर्ड नेशन का दर्जा

पाक के लिए है गुस्‍सा

अखबार के मुताबिक पीएम मोदी पाक के खिलाफ मिलिट्री एक्‍शन के खतरों से वाकिफ हैं और ऐसे में उन्‍होंने पाक को अलग-थलग करने का फैसला किया है। लेकिन उरी आतंकी हमले के बाद भारत में पाक को लेकर काफी गुस्‍सा है।

इसमें यह भी लिखा है कि पीएम मोदी वर्ष 1996 में पाक को दिए गए मोस्‍ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लेकर पाक की टेंशन दोगुनी कर सकते हैं।  

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
US media says Pakistan should not take India's patience for granted.
Please Wait while comments are loading...