हाफिज सईद के सुर में सुर मिलाने लगे नवाज, पाक डॉक्‍टरों के लिए मांगी मंजूरी!

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

इस्लामाबाद। पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ अब लश्‍कर-ए-तैयबा के सरगना हाफिज सईद के 'दूत' बन गए हैं। उनके नए कारनामे से तो ऐसा ही लगने लगा है। पाक पीएम नवाज ने इंटरनेशनल कम्‍यूनिटी से भारत पर दबाव डालने के लिए अनुरोध किया है। दबाव इसलिए कि भारत, पाकिस्‍तान के डॉक्‍टरों को कश्‍मीर जाकर वहां पर घायलों का इलाज कर सकें।

nawaz-sharif-india-kashmir

पढ़ें-हाफिज की नई चाल, कश्‍मीर में घायल लोगों के इलाज के लिए मेडिकल टीम

हाफिज के पैंतरे को आगे बढ़ाते शरीफ

आपको बता दें कि पिछले लश्‍कर की एक और संस्‍था जमात-उद-दावा (जेयूडी ) ने भारत के वीजा के लिए अप्‍लाई किया था। मकसद था अपनी एक मेडिकल टीम को कश्‍मीर भेजकर वहां के लोगों को इलाज मुहैया कराना।

भारत ने वीजा देने से साफ इंकार कर दिया था और जेयूडी को जवाब दिया था कि भारत में भी अच्‍छे डॉक्‍टर मौजूद हैं जो कश्‍मीर में घायलों को इलाज कर सकते हैं।

पढ़ें-राजनाथ इस्‍लामाबाद में और नवाज ने छेड़ा कश्‍मीर का राग

लश्‍कर की साजिश कश्‍मीर की हिंसा

बुरहान वानी की मौत के बाद से कश्‍मीर में जारी हिंसा की वजह से करीब 55 लोगों की मौत हो चुकी है और हजारों लोग घायल हैं। शरीफ इन्‍हीं घायलों के इलाज की आवाज उठा रहे हैं।

पाक पीएम, जिनके देश में मौजूद लश्‍कर ने कश्‍मीर में इस हिंसा की साजिश रची है, कहते हैं कि कश्‍मीर में मानवता मुश्किल में है। ऐसे में अब इंटरनेशनल कम्‍यूनिटी को भारत पर दबाव डालना होगा।

पढ़ें-नवाज शरीफ की धमकी, कहा कश्‍मीरियों की आवाज दबा नहीं सकते

इलाज की आड़ में नवाज का एजेंडा

शरीफ के मुताबिक पैलेट गन के प्रयोग से कई लोगों की आंखों में चोट आई है। ऐसे में पाक के डॉक्‍टर्स उनके इलाज के लिए जाना चाहते हैं। शरीफ के मुताबिक इंडियन आर्मी और पैरामिलिट्री फोर्सेज इलाज में बाधा डाल रही हैं।

सिर्फ इतना ही नहीं हाफिज सर्इद के संदेश को दुनिया तक पहुंचाने के अलावा दुनिया से कश्‍मीर में सुरक्षाबलों की कार्रवाई को रोकने के लिए दबाव डालने की भी अपील कर डाली है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Pakistan Prime Minister Nawaz Sharif has asked India to allow doctors from Pakistan to treat people in Kashmir.
Please Wait while comments are loading...