राजस्‍थान, गुजरात से सटे कराची में नीचे उड़ने वाले एयक्राफ्ट हुए बैन

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

कराची। उरी आतंकी हमले के बाद से भारत और पाकिस्‍तान के बीच तनाव बढ़ता ही जा रहा है। उंगा में जहां इस तनाव को दुनिया ने महसूस किया तो अब दोनों ही देश एक-दूसरे के खिलाफ कुछ कड़े तो कुछ एतिहायती कदम उठा रहे हैं। इसके तहत ही पाकिस्‍तान ने कराची एयरस्‍पेस को नीचे उड़ने वाले एयरक्राफ्ट के लिए बैन कर दिया है।

karachi-airspace-barred.jpg

अगले एक हफ्ते तक बैन

गुजरात और राजस्‍थान के साथ अंतराष्‍ट्रीय सीमा साझा करने वाले कराची के लिए पाक का यह फैसला काफी अहम माना जा रहा है। अगले एक हफ्ते यानी अगले सोमवार तक कराची का एयरस्‍पेस लो फ्लाइंग एयरक्राफ्ट के लिए बैन रहेगा। पाकिस्‍तान की ओर से सोमवार रात एयरमेन (नोटैम) को नोटिस जारी किया गया है।

पढ़ें-कौन हैं सुषमा को झूठा करार देने वाली पाकिस्‍तान की मलीहा लोधी

33,000 फीट वाले एयरक्राफ्ट्स


इस नोटिस के मुताबिक संचालन की कुछ वजहों से कराची फ्लाइट इंफॉर्मेशन रीजन (एफआईआर) के तहत आने वाले रूट्स जमीन से 33,000 फीट की ऊंचाई वाली फ्लाइट्स के लिए मुहैया नहीं होगा।

नोटैम यानी नोटिस टू एयरमैन होता है जिसमें एविएशन अथॉरिटी की ओर से पायलट्स को रूट्स या फिर कुछ जगहों पर मौजूद संभावित खतरों के मद्देनजर अलर्ट किया जाता है।

पढ़ें-सुषमा हैं झूठी और कश्‍मीर भारत का हिस्‍सा सबसे बड़ा झूठ

क्‍या है पाक के इस नोटैम का मतलब

पाक की ओर से जारी इस नोटैम का मतलब है कि खाड़ी देशों और सेंट्रल और नॉर्थईस्‍ट के बीच उड़ान भरने वाले एयरक्राफ्ट्स जिसमें वह भारतीय फ्लाइट्स भी शामिल हैं जो खाड़ी देशों और साउथ ईस्‍ट एशिया को कवर करती हैं।

पढ़ें-पाकिस्‍तान को 60 दिनों के अंदर आतंकी देश घोषित करेंगे ओबामा?

कराची से होते हुए अहमदाबाद

इन फ्लाइट्स को उड़ान का स्‍तर कराची एयरस्‍पेस और एफआईआर में कम से कम 33,000 फीट तक रखना होगा। इस रास्‍ते से होकर गुजरने वाले एयरक्राफ्ट पहले कराची में दाखिल होते हैं, फिर अहमदाबाद के एफआईआर में फिर नागपुर और फिर भुवनेश्‍वर। यह निर्भर करता है कि फ्लाइट किस ओर जा रही है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
As tensions are rising between India and Pakistan, Karachi airspace has been barred from low flying aircraft.
Please Wait while comments are loading...