जानिए, पाकिस्तान की सबसे बड़ी जिस्म की मंडी, हीरा मंडी की कहानी

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लाहौर। लाहौर की हीरा मंडी के कोठों पर जब महफिलें सजा करती थीं, तो बड़े-बड़े लोग इनमें आते थे। आज हीरा मंडी की गलियों में गानेवालियों की आवाजें नहीं आती।

prostitution

जियो से कई गुना बेहतर है एयरटेल का प्लान, ये रहे पुख्ता सबूत

कभी यहां की शान रहीं लड़कियां इस मंडी की तरह ही आज बुरे दौर से गुजर रही हैं। इस मंडी के बनने-बिगड़ने की कहानी का काफी लंबी है लेकिन कैसे ये मंडी गुपचुप फेसबुक पर आ गई और जिस्म के सौदे नेट पर होने लगे ये भी कम दिलचस्प नहीं।

उस जमाने में नाचना-गाना और जिस्म का सौदा करना दो अलग-अलग चीज हुआ करती थीं। तवायफों का गाना सुनने को शहर के बड़े-बड़े अमीरजादे इस गली का रुख करते थे। इसकी रौनकें ही कुछ ऐसी हुआ करती थीं कि किसी को भी खींच लाए।

जानिए, पाकिस्तान की सबसे बड़ी जिस्म की मंडी, हीरा मंडी की कहानी

इस मंडी में रहने वाली तवायफों के कभी बड़े लोग दीवाने हुआ करते थे, एक खास धमक इन औरतों की हुआ करती थी, लेकिन जो इज्जत, शोहरत और रुतबा इस मंडी मे बची औरतों को आज नहीं है। ज्यादातर ने हीरा मंडी को छोड़ दिया है अब वो इस जगह से काफी दूर रहती हैं और अपना पेशा भी बदल लिया है।

पत्नी को पीटता था शख्स, कोर्ट ने कहा- ज्यादा ताकत है तो कश्मीर चले जाओ

मुजरा करने वाली जिस्म नहीं बेचा करती थी

हीरा मंडी की रहने वालियों की तरह ही हीरा मंडी की कहानी भी है, जो आज अपनी बदहाली पर आंसू बहा रही है। पाकिस्तान के एतिहासिक शहर लाहौर में बादशाही मस्जिद के करीब है हीरा मंडी।

हीरा मंडी का इतिहास बहुत पुराना है, लेकिन इस मंडी पर जवानी आई मुगलकाल में। मुगलकाल में लाहौर की हीरामंडी में सुरों की महफिल सजती और शहर के शौकीन लोग इस मंडी का रुख करते। आस-पास के बाजारों में भी खूब रौनक रहा करती थी।

एक खास बात उस जमाने में ये हुआ करती थी कि जिस्म का सौदा इन बाजारों में नहीं होता था। जिस्म का सौदा करने वाली वेश्या अलग हुआ करती थीं और नाचने-गाने वाली अलग।

इन कोठों पर बचपन से ही लड़कियों को रियाज कराया जाता था और फिर वो गाना शुरू करतीं। उन्हें शायरी और संगीत की बाकायदा तालीम दी जाती थी। यहां तक कि अमीर लोग अपने बेटों को शायरी और गाने की सीख लेने के लिए इस मंडी में जाने की सलाह देते।

जानिए कौन है ज्‍यादा पावरफुल पाक का F-16 या भारत का सुखोई

जब गानेवालियों को भी जिस्म का सौदा करना पड़ा

मुगलों का दौर खत्म हुआ तो अंग्रेजों ने हिन्दुस्तान पर राज करना शुरू कर दिया। (तब पाकिस्तान अलग देश नहीं था) इस दौर में धीरे-धीरे मुजरा करने वाली और वेश्या के बीच की दीवार ढहने लगी।

अब एक मुजरा करने वाली को जिस्म का सौदा करने वाली भी माना जाने लगा। हालात बदले जरूर लेकिन हीरा मंडी की रौनकें कायम रहीं। गली से निकलता हर आम-ओ-खास नजर भर के एक बार ऊपर की तरफ जरूर देखता और चारों ओर बिखरे हुस्न को निहार लेता।

आजादी के बाद लाहौर पाकिस्तान का हिस्सा बना। हीरा मंडी को लेकर कभी-कभार सवाल भी हुए लेकिन ये मंडी सजती रही। इस मंडी के लिए सबसे बड़ा खतरा बना टेक्नोलॉजी का विकास। मोबाइल फोन, इंटरनेट, फेबसुक, ट्विटर के आने के बाद ये मंडी अपने आखिरी दिन गिनने लगी।

वक्त के साथ बदल गई वेश्यावृति

मुजरे के शौकीन अब नहीं रहे, गीत-संगीत लोगों के मोबाइल फोन पर आ गया तो अब भला कौन हीरा मंडी जाता। दूसरी तरफ शहर में वेश्यावृति भी इंटरनेट पर आ गई।

पाकिस्तान के अखबार डॉन के मुताबिक, लाहौर में फेसबुक के जरिए लड़कियां तय कर लेती हैं कि कहां मिलना है और स्काइप के जरिये जिस्म के सौदे हो जाते हैं।

हीरा मंडी में कभी रहने वाली तवायफों में आज कुछ लाहौर में बेहद आलीशान जिंदगी जी रही हैं, ये वो हैं जो आज ग्राहकों तक लड़कियां पहुंचाती हैं। हालांकि ये कहती हैं कि उनके विजनेस का क्या होगा जब स्काइप के जरिए 300 रुपये में रातभर के लिए लड़की मिल जाती है।

इस्लामाबाद के आसमान पर F-16 की उड़ान के पीछे की पूरी कहानी

अब इस बिजनेस में दलालों की जरूरत नहीं

इंटरनेट ने जिस्मफरोशी के इस बिजनेस या कहिए धंधे को बिल्कुल बदल दिया है। लड़कियां अब ग्राहक के लिए कुछ खास जगहों ओर लोगों के पास जाती हैं लेकिन कुछ वक्त बाद उन्हें किसी दलाल की जरूरत नहीं रहती वो फेसबुक से ग्राहक ढूंढ लेती हैं।

हीरा मंडी अब तकरीबन इतिहास हो चुकी है। लोग अब इसे डायमंड सिटी पुकारते हैं। यहां तक कि कभी वहां रहीं लड़कियां अब ग्राहको को नहीं बतातीं कि वो कहां से आई हैं। इससे ग्राहक उनसे कन्नी काट लेते हैं।

इंटरनेट के जरिए ये बिजनेस खूब फल-फूल रहा है। वैसे भी अब संगीत सीखने को भी किसी उस्ताद की जरूर नहीं अब तो बॉलीवुड फिल्म के गाने देख-देखकर लड़कियां डांस सीख लेती हैं।

स्टूडेंट लड़कियों की होती है ज्यादा मांग

कभी हीरा मंडी मे रह चुकी और अब ग्राहकों को लड़की उपलब्ध कराने वाली 50 साल की एक औरत बताती हैं कि आज भी उनके पास सबसे ज्यादा डिमांड स्टूडेंट लड़कियो की आती है, एमबीए और मेडिकल में पढ़ने वाली लड़कियों के कस्टमर एक हजार से दो हजार रुपये एक रात के देने को तैयार रहते हैं।

लाहौर में आज मर्द ही नहीं औरते भी उनसे 'लड़के का इंतजाम' कराने को कहती हैं। पैसे वाले घरों की लड़कियां कुछ खास जगहों पर डिमांड करती हैं कि वो पैसे देंगी लेकिन लड़का जरा मजबूत हो।

मिलिए भारत की बेटी से, जिसने यूएन में पाक को दिया करारा जवाब

डॉन के मुताबिक पाकिस्तान में ऑनलाइन लड़कियों का सौदा करने वाली एक वेबसाइट का दावा है कि उसके 50 हजार ग्राहक हैं। साफ है हीरा मंडी इतिहास बन चुकी है लेकिन जिस्म के सौदे आज भी हो रहे हैं। हां तरीके बदल गए हैं।

पहले सारा लाहौर हीरा मंडी को जानता था और हीरा मंडी में वेश्या और मुजरा करने वाली का फर्क होता था लेकिन अब हर दूसरे मोबाइल पर एक हीरा मंडी है। फेसबुक, ट्विटर पर आज हीरा मंडी आ गई है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Facebook is killing Lahore Heera Mandi
Please Wait while comments are loading...