सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद पाक आर्मी मीडिया को लेकर गई एलओसी तक

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

इस्‍लामाबाद। 28 और 29 सितंबर को एलओसी पर इंडियन आर्मी की सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद पाकिस्‍तान की आर्मी अपनी मीडिया को एलओसी तक लेकर गई। पाक सेना ने मीडिया से दावा किया कि एलओसी पर सुरक्षा के इतने चाक-चौबंद सुरक्षा इंतजाम हैं कि कोई भी उसको भेद नहीं सकता है। ऐसे में भारत की ओर से हो रहे सर्जिकल स्‍ट्राइक के दावे पूरी तरह से गलत हैं।

pakistan-army-loc-media.jpg

पढ़ें-मुशर्रफ ने माना दुनिया में अलग-थलग पड़ गया है पाकिस्‍तान

इंटरनेशनल मीडिया एलओसी पर

पाक आर्मी के एक ऑफिसर ने एलओसी के पास ऊंची पहाड़ी पर जंगलों के बीच बनी इंडियन आर्मी की पोस्‍ट की ओर इशारा करते हुए कहा कि एलओसी को पार करके पाकिस्तानी इलाके में घुसना संभव ही नहीं है।

पाक आर्मी भारत के सर्जिकल स्ट्राइक के दावों को लगातार खारिज कर रही है। इसके तहत ही वह कुछ इंटरनेशनल मीडिया ऑर्गनाइजेशंस से जुड़े पत्रकारों को हेलीकॉप्टर के जरिए एलओसी के पास ले कर गई।

पढ़ें-भारत से क्‍यों बदला लेना चाहते हैं जनरल शरीफ!

सुहाग की बधाई के बाद फैसला

पाक आर्मी शनिवार को पत्रकारों को एलओसी के पास लेकर गई। इंडियन आर्मी चीफ जनरल दलबीर सुहाग की तरफ से सर्जिकल स्ट्राइक में शामिल कमांडो को बधाई दिए जाने के बाद पाक आर्मी ने यह कदम उठाया है।

पाक आर्मी का हेलीकॉप्टर पत्रकारों को उन सेक्टरों तक ले गया जो सिर्फ एलओसी से सिर्फ दो किलोमीटर दूर है। यहां से वह जगह दूर नहीं है जहां इंडियन आर्मी ने सर्जिकल स्ट्राइक के तहत आतंकी कैंपों को निशाना बनाया था।

पढ़ें-सर्जिकल स्ट्राइक के वक्त ईरान कर रहा था हमारी मदद!

एलओसी पर किलेबंदी का दावा

पाक आर्मी के प्रवक्ता आसिम बाजवा ने हरी भरी बंडाला घाटी की तरफ इशारा करते हुए कमांड पोस्ट से कहा कि आप देख सकते हैं कि किस तरह की किलेबंदी गई है और पाकिस्तान ने किस तरह अलग अगल स्तरों वाले सुरक्षा उपाय किए हैं।

बाजवा के मुताबिक इसी तरह के उपाय भारत ने भी अपने लिए किए हैं। ऐसे में एलओसी का उल्लंघन नहीं हो सकता है। बाजवा की मुताबिक सेना यूनाइटेड नेशंस और मीडिया से लेकर आम जनता तक को जवाब देने के लिए तैयार है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
After surgical strike Pakistan army takes media to the LoC to prove India did not do anything.
Please Wait while comments are loading...