सेक्स सीडी मामले में संदीप कुमार को राहत के आसार, मिल सकती है जमानत

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। केजरीवाल सरकार में मंत्री रहे आम आदमी पार्टी से निकाले जा चुके नेता संदीप कुमार को राहत के आसार हैं। सूत्रों के मुताबिक उन्हें रिमांड अवधि खत्म होते ही जमानत मिल सकती है।

sandeep kumar

संदीप कुमार को मिल सकती है राहत

संदीप कुमार के सेक्स सीडी मामले में पुलिस को खास कामयाबी मिलती नहीं दिख रही है। सूत्र बता रहे हैं कि जांच में जुटे अधिकारियों को अभी तक इस मामले से जुड़े अहम सबूत नहीं मिले हैं।

सेक्स स्कैंडल के बाद नौकरानी से रेप करने के आरोप में घिरे एक और आप नेता

ऐसी स्थिति में इस बात की संभावना ज्यादा है कि संदीप कुमार को फौरी तौर पर राहत मिल जाए। टीओआई में छपी खबर के मुताबिक ऐसी संभावना है कि तीन दिन की पुलिस रिमांड पूरी होते ही उन्हें जमानत दे दी जाए।

बता दें कि संदीप कुमार की सेक्स सीडी सामने आने के बाद, सीडी में नजर आ रही महिला ने उन पर बलात्कार के आरोप लगाए थे। जिसके बाद संदीप कुमार ने सरेंडर कर दिया था। जिसके बाद उन्हें तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा गया था।

पुलिस को नहीं मिल रहे जरूरी सबूत

पुलिस सूत्रों के मुताबिक सीडी मामले की जांच जुटी पुलिस को वह डिवाइस नहीं मिली है जिससे ये पूरा वीडियो रिकॉर्ड किया गया और वितरित किया गया।

पंजाब: दलित छात्रों के लिए अलग एटेंडेंस मशीन लगाने पर कॉलेज में बवाल

साथ ही ये वीडियो और तस्वीरें किस समय ली गई हैं ये भी पूरी तरह से साफ नहीं हो सका है। पुलिस के लिए इस केस को मजबूती से रखने के लिए इन सबूतों का मिलना जरूरी है, नहीं तो केस बेहद कमजोर होगा।

एक अधिकारी के मुताबिक पीड़िता ने बताया है कि पूरा घटनाक्रम उनके घर बेचने से तीन महीने पहले का है और उन्होंने अपना घर करीब सात महीने पहले बेचा है। हालांकि वीडियो में नजर आ रहा कैलेंडर साल 2010 का है।

तीन दिन की पुलिस रिमांड पर हैं संदीप कुमार

सूत्रों के मुताबिक इस मामले में पुलिस को पहले ही झटका लग चुका है जब मजिस्ट्रेट के सामने उन्होंने संदीप कुमार के लिए 14 दिन की पुलिस रिमांड की मांगी थी, लेकिन तीन दिन की ही रिमांड मिली थी।

अब बेडरूम तक पहुंचने वाला है रोबोट, क्या इंसान से बेहतर प्यार दे पाएगा?

इसके अलावा पुलिस अभी तक तस्वीरों में नजर आ रही दूसरी पीड़िता को नहीं खोज सकी है। सूत्र बता रहे हैं कि वह भी प्रवीण की तरह ही एक सरकारी कर्मचारी है।

इसके लिए पुलिस प्रवीण की फोन कॉल डिटेल्स खंगाल रही है। इस बीच संभावना ये भी है कि दिल्ली पुलिस प्रमुख इस मामले को क्राइम ब्रांच के हवाले भी कर सकते हैं।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sources said police have failed to recover the device which was used to record the video and who circulated it.
Please Wait while comments are loading...