जेएनयू में पीएम मोदी का पुतला जलाने के मामले में गृह मंत्रालय ने दिल्‍ली पुलिस से मांगी रिपोर्ट

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। विजयादशमी के दिन जवाहर लाल नेहरू विश्‍वविद्यालय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंकने के मामले में गृह मंत्रालय ने दिल्‍ली पुलिस से रिपोर्ट मांगी है।

मंगलवार की रात फूंका गया पुतला

जेएनयू कैंपस में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला फूंका गया था। यह घटना मंगलवार रात की है, जब दिल्ली की जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी में कुछ छात्रों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला फूंक कर अपना गुस्सा दिखाया। छात्रों ने मोदी के पुतले को रावण के पुतले की तरह 10 सिर वाला बनाया। इसमें पीएम मोदी के अलावा योग गुरु बाबा रामदेव, अमित शाह, साध्वी प्रज्ञा, योगी आदित्यनाथ, आसाराम बापू, नत्थूराम गोडसे, जेनएयू वीसी, ज्ञानदेव आहूजा और कुछ अन्य लोगों की तस्वीर लगाई गई थी।

किसने जलाया पुतला

छात्रों ने मोदी के पुतले को रावण के पुतले की तरह 10 सिर वाला बनाया। इसमें पीएम मोदी के अलावा योग गुरु बाबा रामदेव, अमित शाह, साध्वी प्रज्ञा, योगी आदित्यनाथ, आसाराम बापू, नत्थूराम गोडसे, जेनएयू वीसी, ज्ञानदेव आहूजा और कुछ अन्य लोगों की तस्वीर लगाई गई थी। एक समाचार पत्र से बातचीत करते हुए एनएसयूआई के एक सदस्य ने इस बात की पुष्टि भी की है, कि उन्होंने ही पुतला जलाया है।

इसलिए जलाया गया पुतला

उनका कहना है कि पुतला इसलिए जलाया गया ताकि बुराई को सरकार से बाहर करने का संदेश दिया जा सके और ऐसा सिस्टम लाया जाए जो छात्रों और जनता के हित में काम करे। एनएसयूआई के सदस्यों का कहना है कि पीएम मोदी के अलावा बाबा रामदेव का पुतला इसलिए फूंका गया, क्योंकि अब वह बाबा से बिजनेसमैन बन चुके हैं। सरकार के वादे अब सिर्फ कागजों पर रह गए हैं। छात्रों की आवाज को प्रशासन की तरफ से दबाया जा रहा है।

वीडियो सोशल मीडिया पर भी डाला गया

पुतला जलाने का ये वीडियो सोशल मीडिया पर भी डाला गया है। वीडियो में मोदी का पुतला जलाते हुए पीएम मोदी के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे भी लगाए गए हैं। आपको बता दें कि एनएसयूआई कांग्रेस का संगठन है इसलिए बीजेपी मांग कर रही है कि सोनिया गांधी को इसके लिए माफी मांगनी चाहिए।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
MHA asks for a report from Delhi police on JNU issue
Please Wait while comments are loading...