रेप के आरोपी ने कोर्ट में ही प्‍ले कर दिया नाबालिग पीडि़ता का VIDEO स्‍टेटमेंट

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। इसे गवाह की सुरक्षा में भारी चूके कहें या फिर अपराधियों के बेखौफ मंसूबे क्‍योंकि एक नाबालिग से गैंगरेप के आरोपी ने खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए पीडि़ता द्वारा पुलिस को दिए गए बयान का वीडियो कोर्ट में चला दिया है। इस वीडियो को देखकर जज भी हैरान रह गए। हालांकि कोर्ट ने आरोपी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। जज ने जांच के आदेश दिए हैं।

'सेक्‍स पार्टी': नए साल का ऐसा जश्‍न जिसमें खो जाती है लड़कियों की वर्जिनिटी 

Court shocked, Delhi rape accused plays video of minor victim’s statement

आगे की बात करने से पहले आपको बता दें कि बीते 3 नवंबर को 10वीं क्‍लास में पढ़ने वाली लड़की के साथ 3 लोगों ने पहाड़गंज के एक होटल में सामूहिक बलात्‍कार किया था। पीडि़ता ने पुलिस को दिए शिकायत में यह आरोप लगाया था कि वो होटल में अपने किसी जान-पहचान वाले से मिलने गई थी। उसने पुलिस को बताया कि जब वह होटल पहुंची तो उसके जान-पहचान वाले शख्‍स के साथ तीन लोग और बैठे हुए थे। उसके बाद लड़की के पहचान वाले और उसके साथियों ने लड़की के साथ रेप किया और उसे पुलिस के पास न जाने की धमकी दी।

कोर्ट में प्‍ले कर दिया वीडियो

अंग्रेजी अखबर इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के मुताबिक पीडि़ता को सजा देने की जिरह चल रही थी उसी दौरान अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए आरोपी ने पीडि़ता द्वारा पुलिस को दिए गए बयान का वीडियो प्‍ले कर दिया। तीस हजारी कोर्ट के अडिशनल सेशन जज विमल कुमार यादव वीडियो देख कर चौंक गए और पूछा कि वीडियो कहां से मिली। तो इसपर आरोपी ने अपने वकील के जरिए कहा कि उसे यह यू ट्यूब से मिली है।

इसके फौरन बाद जज विमल कुमार यादव ने जांच के आदेश दे दिए। उन्होंने कहा कि जांच एजेंसियों को पॉस्को के तहत पीड़ित की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। उल्‍लेखनीय है कि पॉस्को के प्रावधानों के तहत जांच कर रहे अधिकारी को पीड़ित का बयान रिकॉर्ड करना होता है। ऐसी रिकॉर्डिंग्स गोपनीय सबूत होती हैं जो जांच और कोर्ट की सुनवाई के दौरान भी बेहद अहम होती हैं। कोर्ट के दस्तावेजों के मुताबिक पीड़िता के बयान का कथित वीडियो पहाड़गंज पुलिस स्टेशन में पोस्टेड जांच अधिकारी ने रिकॉर्ड किया था।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The video recording of a 15-year-old girl's confidential statement to Delhi police after she was allegedly gangraped by three men in Paharganj was reportedly shown in a sessions court as "proof" of an accused's innocence.
Please Wait while comments are loading...