'ऐ दिल है मुश्किल' की डील पर फरहान ने उठाए सवाल, बताया 'कठोर उदाहरण'

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

मुंबई। 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज को लेकर भले ही फिल्म के निर्देशक करण जौहर और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के बीच जारी विवाद सुलझ गया हो। लेकिन फिल्म जगत से जुड़ी हस्तियां इस मामले को लेकर सवाल खड़े कर रही हैं।

पाकिस्‍तान में नहीं होंगी रिलीज ऐ दिल है मुश्किल और शिवाय

'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज पर हुआ था विवाद

एक्टर-निर्देशक फरहान अख्तर ने 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज को लेकर हुई डील पर सवाल खड़े किए हैं। एक्टर-डायरेक्टर फरहान अख्तर ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में इस डील को 'कठोर उदाहरण' करार दिया है।

पाकिस्तानी कलाकारों को बैन करने पर अजय देवगन का बड़ा बयान, कहा- प्रोड्यूसर को मजबूर नहीं कर सकते

उन्होंने कहा कि इस पूरे घटनाक्रम को देखकर बस एक ही शब्द दिमाग में आता है कि ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। ऐसा इसलिए क्योंकि ये एक भयानक मिसाल है।

5 करोड़ की डील वाली MNS प्रमुख राज ठाकरे की शर्त पर सेना की फटकार, कहा- राजनीति से दूर रखें

फरहान बोले, आप उनकी बातें क्यों सुन रहे हैं जो आपको डरा रहे हैं?

फरहान बोले, आप उनकी बातें क्यों सुन रहे हैं जो आपको डरा रहे हैं?

पाकिस्तानी एक्टर्स के फिल्म में काम नहीं करने को लेकर एमएनएस के सवाल उठाने को लेकर फरहान अख्तर ने कहा कि इस मामले में सरकार भी कुछ नहीं कहती कि आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं, ऐसे में आप किसी और बात क्यों सुन रहे हैं?

फरहान ने कहा कि आप उन लोगों की बातों को सुन रहे हैं जो आपको डरा रहे हैं? अगर आपको हिंसा की धमकी मिल रही तो ये सिर्फ आपके ही बारे में नहीं है। इसमें घर में रहने वाले आपके बच्चे और आपका परिवार भी शामिल है।

'आखिर फिल्म इंडस्ट्री ही निशाने पर क्यों'

'आखिर फिल्म इंडस्ट्री ही निशाने पर क्यों'

फरहान अख्तर अपनी आने वाली फिल्म के प्रमोशन कर रहे हैं इसी दौरान उन्होंने ये बातें कही। केवल फिल्म उद्योग को निशाना बनाए जाने पर उन्होंने कहा कि अगर आप किसी कानून को पास करते हैं तो लोगों की आवाज को सामने रखते हैं।

उन्होंने कहा कि हमने आपको इसलिए चुना है कि आप सभी के लिए कानून पास करें। केवल फिल्म उद्योग के लिए स्टैंडर्ड तय नहीं करें। आखिर फिल्म इंडस्ट्री ही क्यों? क्योंकि हम आसान टारगेट हैं। आखिर आप पाकिस्तान और भारत के बीच कारोबार को क्यों नहीं रोकते हैं। दोनों देशों के बीच दो बिलियन डॉलर का कारोबार हर साल होता है। इसे रोकना चाहिए।

फिल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज को लेकर था विवाद

फिल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज को लेकर था विवाद

बता दें कि करण जौहर की फिल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' के खिलाफ राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने विरोध के सुर बुलंद कर रखे थे। ऐसा इसलिए क्योंकि फिल्म के एक्टर्स में पाकिस्तानी कलाकार फवाद खान भी शामिल थे।

उरी बेस कैंप में आतंकी हमले के बाद देशभर में पाकिस्तान के खिलाफ माहौल बन गया। एमएनएस ने पाकिस्तानी कलाकारों को बॉलीवुड से वापस भेजने का अभियान शुरू कर दिया साथ ही जिन फिल्मों में पाकिस्तानी कलाकारों ने एक्टिंग की है उन्हें रिलीज नहीं होने की धमकी दे दी।

करण जौहर और राज ठाकरे के बीच हुई थी बैठक

करण जौहर और राज ठाकरे के बीच हुई थी बैठक

इस विरोध में करण जौहर की फिल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज फंस गई। जिसके बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस से बॉलीवुड के बड़े निर्देशकों ने मुलाकात की और मामले में सुलह की अपील की। इसके बाद महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फड़नवीस ने एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे और फिल्म 'ऐ दिल है मुश्किल' के निर्देशक करण जौहर के बीच मुलाकात कराई।

जिसमें फिल्म की रिलीज को हरी झंडी दे दी गई हालांकि इसके बदले फिल्म के निर्देशक को 5 करोड़ रुपये आर्मी वेलफेयर फंड में जमा करना होगा। साथ ही आगे किसी फिल्म में पाकिस्तानी एक्टर काम नहीं करेंगे ये भी आश्वासन दिया गया। जिसके बाद फिल्म रिलीज का रास्ता साफ हो सका।

'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज पर बॉलीवुड में सामने आए थे दो मत

'ऐ दिल है मुश्किल' की रिलीज पर बॉलीवुड में सामने आए थे दो मत

इस पूरे घटनाक्रम पर बॉलीवुड में फाड़ नजर आया। जहां कुछ लोगों ने इस मामले को सही करार दिया तो कुछ ने इस फैसले पर नाराजगी जाहिर की।

फरहान अख्तर का रुख भी कुछ ऐसा ही रहा। इससे पहले शबाना आजमी ने भी फिल्म की रिलीज को लेकर जो फैसला लिया उस पर सवाल उठाए थे।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Farhan Akhtar says terrible precedent Karan Johar MNS deal over film.
Please Wait while comments are loading...