मध्य प्रदेश: सिमी एनकाउंटर में घायल हुए तीन पुलिसकर्मियों का कुछ पता नहीं!

Subscribe to Oneindia Hindi

भोपाल सेंट्रल जेल से भागे हुए सिमी आतंकियों को मार गिराने में शामिल तीन पुलिसकर्मी गायब हैं और उनका कुछ भी पता नहीं चल पा रहा है। पुलिस अधिकारी का कहना है कि वे घर पर आराम कर रहे हैं और कोई उनसे नहीं मिल सकता। घर पर भी उन पुलिसकर्मियों की कोई खबर नहीं मिल पाई।

हिंदुस्तान टाइम्स के इंवेस्टिगेशन के अनुसार, गायब पुलिसकर्मियों में से कोई भी गंभीर रूप से घायल नहीं हैं और उनमें से एक तो एनकाउंटर के बाद लगातार ऑफिस जाते रहे। तीनों पुलिसकर्मियों को सरकार छिपाने की कोशिश क्यों कर रही है?

Read Also: 4 अहम सबूत कर रहे इशारे, जेल से सिमी आतंकियों को किसने भगाया?

bhopal encounter

मुठभेड़ के दौरान कथित तौर पर घायल हुए थे गायब पुलिसकर्मी

इन तीनों पुलिसकर्मियों के बारे में कहा गया था कि आठ सिमी आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान हुई फायरिंग में वे घायल हो गए थे। इस मुठभेड़ की पुलिसिया कहानी तब संदेहास्पद हो गई जब इस बारे में घटनास्थल के कई वीडियो सामने आए। इसके बाद फर्जी मुठभेड़ पर काफी सियासी घमासान मचा और शिवराज सरकार के साथ-साथ एमपी पुलिस पर सवाल उठने लगे।

एसपी अरविंद सक्सेना का कहना था कि उन पुलिसकर्मियों के हाथ और पैर पर कटने की वजह से जख्म थे। उन्होंने उन पुलिसकर्मियों के नाम बताए - स्पेशल टास्क फोर्स के हेड कॉन्स्टेबल नारायण सिंह, क्राइम ब्रांच के कॉन्स्टेबल दिनेश खत्री और मयंद सिंह।

एसपी ने हिंदुस्तान टाइम्स से कहा उन पुलिसवालों से कोई नहीं मिल सकता। किसी को इसकी इजाजत नहीं है। वे अपने घरों पर उपचार करा रहे हैं। क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने उन पुलिसवालों के बारे में कुछ भी बताने से इनकार कर दिया।

घर पर पुलिसकर्मियों की कोई खबर नहीं!

नारायण सिंह के बारे में उनके घर पर कुछ भी पता नहीं चल पाया। उनकी पत्नी ने बस इतना बताया कि वह ड्यूटी पर जा रहे हैं। कॉन्सटेबल दिनेश खत्री के घर पर उनके भाई ने पत्रकार को घर के अंदर आने से मना कर दिया और कहा कि वे अपने घाव की मरहमपट्टी करवाने के लिए हॉस्पिटल गए हुए हैं। तीसरे घायल पुलिसकर्मी मयंद सिंह के बारे में कुछ भी पता नहीं चला।

fake encounter bhopal

फर्जी मुठभेड़ को छुपाने की कोशिश!

तीनों घायल पुलिसकर्मियों से किसी को मिलने नहीं दिया जा रहा है। कहीं यह फर्जी मुठभेड़ के सबूत को छिपाने की कोशिश तो नहीं?

इस एनकाउंटर की वजह से मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार की काफी आलोचना हुई और पुलिस पर मानवाधिकार हनन के आरोप लगे।

कांग्रेस प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने मामले पर कहा कि अगर वे पुलिसवाले एनकाउंटर के हीरो हैं तो उनको इनाम देना चाहिए, इस तरह से उनको छुपने पर मजबूर नहीं करना चाहिए।

Read Also: भोपाल एनकाउंटर: सरकार ने पुलिसकर्मियों के ईनाम को अभी टाला

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Three policemen who were said to be injured in SIMI encounter have not any trace. Are police hiding the proofs of fake encounter.
Please Wait while comments are loading...