भाजपा विधायक के क्षेत्र में जान पर खेलकर लाश को कब्रिस्तान तक ले जाते हैं लोग!

Subscribe to Oneindia Hindi

सागर मध्य प्रदेश के सागर जिले में एक गांव ऐसा भी है जहां किसी को दफनाने के लिए मुस्लिम समुदाय के लोगों को जान जोखिम में डालकर कब्रिस्तान तक जाना पड़ता है। मामला कर्रापुर गांव का है जो नरयावली विधानसभा क्षेत्र में पड़ता है। भाजपा नेता प्रदीप लारिया यहां से विधायक हैं जिनके खिलाफ मुस्लिम समुदाय में गुस्सा है।

READ ALSO: समझौते के लिए तैयार नहीं हुई बलात्कार पीड़िता तो काट दी उंगलियां?

karrapur village

कर्रापुर गांव का मामला

कर्रापुर में बीमारी की वजह से ईशाक अली की बेटी की मौत हो गई। उसे दफनाने के लिए बांकरई नदी के पार बने कब्रिस्तान तक ले जाना था। बारिश के समय इस नदी में काफी पानी भरा रहता है। इस नदी पर पुल नहीं होने की वजह से ईशाक अली की बेटी की लाश को लोग कब्रिस्तान तक जान जोखिम में डालकर नदी में तैरते हुए किसी तरह ले गए।

मुस्लिम समुदाय के लोगों का कहना है कि हर साल बारिश के मौसम में इतने ही बुरे हालात रहते हैं लेकिन पिछले 8 साल से विधायक और भाजपा नेता प्रदीप लारिया ने इस नदी पर पुल बनाने की तरफ ध्यान नहीं दिया।

विधायक ने लोगों को बुलाकर किया आश्वस्त

लोगों के गुस्से को शांत करने के लिए विधायक प्रदीप लारिया ने कर्रापुर के ग्रामीणों को आवास पर बुलाकर बातचीत की है। विधायक ने ग्रामीणों को भरोसा दिलाया है कि वह इस समस्या का समाधान करेंगे।

READ ALSO: मंदिर में लड़कियों के जींस और स्कर्ट पहनकर आने पर लगी पाबंदी

बन जाना था अब तक पुल

कर्रापुर के ग्रामीणों का कहना है कि बांकरई नदी पर इस पुल का निर्माण बहुत पहले हो जाना चाहिए था लेकिन इस तरफ अभी तक किसी ने ध्यान नहीं दिया है। सबसे अधिक समस्या बारिश के समय होती है जब समाज में किसी का इंतकाल हो जाता है तो उनके जनाजे को कब्रिस्तान ले जाने के लिए नदी पार करनी पड़ती है। समाज के लोगों ने यह भी कहा कि कब्रिस्तान तक जाने के लिए अभी तक डेढ़ किमी तक सड़क का भी निर्माण नहीं हुआ है।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In a village of Sagar district, villagers from muslim community have to cross dangerous river to bury the dead body.
Please Wait while comments are loading...