बचपन के स्कूल में पहुंचकर भावुक हुए सीएम शिवराज, सुनाई अपनी जिंदगी की कहानी

कहानी उत्सव प्रोग्राम में भाग लेने सीएम शिवराज पहुंचे अपने स्कूल। वहां जाकर उन्होंने अपनी जिंदगी की स्टोरी सुनाई।

Subscribe to Oneindia Hindi

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने बचपन के स्कूल में पहुंचे तो भावुक हो गए और उन्होंने अपनी जिंदगी की कहानी सुनाई। सीएम शिवराज, शिवाजी नगर स्थित मिड्ल स्कूल में कहानी उत्सव प्रोग्राम में हिस्सा लेने गए थे।

Read Also: भोपाल: CM शिवराज सिंह चौहान से नहीं मिल पाया तो टॉवर पर चढ़ा किसान

shivraj singh chouhan1

1969 में इस स्कूल में पढ़े थे शिवराज

इस स्कूल में शिवराज सिंह चौहान ने छठी से लेकर आठवीं क्लास तक की पढ़ाई की थी। सरकारी स्कूल में चलाए जा रहे कहानी उत्सव प्रोग्राम में भाग लेने आए सीएम शिवराज ने महाभारत और गांधी जी के प्रसंगों को सुनाने के साथ-साथ उन दिनों की यादें भी ताजा कीं जब वे इस स्कूल में पढ़ाई करते थे।

shivraj singh chouhan2

शिवराज ने अपने स्कूल के दिनों को किया याद

अपने स्कूल के दिनों को याद करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वे रविशंकर नगर से पैदल आते थे। उन्होंने अपने टीचर कश्यप सर और शैलबाला मैम का नाम लिया। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के आशीर्वाद से ही वो बेहतर इंसान बन पाए।

shivraj singh chouhan3

सीएम ने कहा कि वे फुटबॉल खूब खेलते थे और क्लास में हमेशा डिस्टिंक्शन नंबर लाते थे। उन्होंने कहा, 'आठवीं के बाद आगे की पढ़ाई के लिए टीटी नगर के सरकारी गर्वनमेंट मॉडल स्कूल चला गया। इमरजेंसी के विरोध में लगभग साढ़े नौ महीने जेल की सजा काटी। 1977 में मैंने ग्यारवीं क्लास की परीक्षा दी और फर्स्ट डिवीजन से पास हुआ। इसके बाद मैंने ग्रेजुएशन के बाद फिलॉसिफी में एमए किया और उसमें भी फर्स्ट डिवीजन पाया।' उन्होंने बच्चों को परीक्षा में अच्छे अंक लाने की प्रेरणा दी।

बच्चों के 'मामा' है शिवराज सिंह चौहान

मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बच्चों के बीच माम के नाम से मशहूर हैं। उन्होंने अपने स्कूल की बिल्डिंग की रिपेयरिंग करवाने और एक नई बिल्डिंग बनाने की भी घोषणा की।

Read Also: नोटबंदी के खिलाफ रैली के बाद कांग्रेस नेता को पड़ा दिल का दौरा, मौत

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
CM Shivraj Singh Chouhan became emotional when he reached to his school. CM told children his life story.
Please Wait while comments are loading...