रेप पीड़िता पर दिए बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान से मांफी मांगने को कहा

सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान से बुलंदशहर रेप केस में माफी मांगने को कहा, मामले की अगली सुनवाई 7 दिसंबर को होगी।

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। यूपी के कैबिनेट मंत्री आजम खान के खिलाफ आज सुप्रीम कोर्ट ने सख्त निर्देश दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने आजम खान को बुलंदशहर रेप केस के मामले में मांफी मांगने को कहा है।

azam khan

मुलायम सिंह महादेव हैं... बापों के बाप हैं, मैं तो मैं आउटसाइडर हूं: अमर सिंह

7 दिसंबर को मामले की सुनवाई
कोर्ट ने आजम खान से बुलंदशहर रेप केस पर दी गई अपनी टिप्पणी पर मांफी मांगने को कहा है, इसके साथ ही कोर्ट में एफिडेविट भी जमा करने का कोर्ट ने खान को निर्देश दिया है। इस मामले की अगली सुनवाई 7 दिसंबर को होगी।

मायावती ने यूपी के मुसलमानों को किया सावधान

क्या कहा आजम खान ने 

वहीं इस मामले की सुनवाई के दौरान आजम खान ने एफिडेविट दाखिल किया था। उन्होंने अपने एफिडेविट में कहा था कि मैं रेप पीड़ितों के दर्द को समझता हूं , बतौर मंत्री मैं उनकी मदद के लिए हमेशा तैयार हूं, मैंने पीड़ितों पर सवाल नहीं उठाएं हैं मेरे बयान को गलत समझा गया है।

आजम खान ने अपने बचाव में कहा कि मैं कई सालों से समाज सेवा के क्षेत्र में हूं और मैंने इसके लिए अलग से एक विश्वविद्यालय भी बनाया है। मैं महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए काम करता हूं, मेरे बयान को तोड़ मरोड़ को पेश किया गया, उन्होंने कहा कि मेरे खिलाफ राजनीतिक साजिश की गई है।

क्या है आजम का विवादित बयान

गौरतलब है कि आजम खान ने कहा था कि जब सत्ता के लिए बेगुनाहों की जान ली जा सकती है, सत्ता के लिए गुजरात हो सकता है, वोट के लिए इतना गिर सकते हैं, इन लोगों ने बापू को आरएसएस की विचारधारा के लिए मार दिया।

आजम खान ने कहा था कि तीन बलात्कार हो गए, इसके पीछे का सच क्या है, वो मालूम हो जाए तो अच्छा है। उन्होंने कहा कि चुनाव करीब है, समाजवादी पार्टी को बदनाम करने के लिए इसके अलावा विपक्ष के लिए कोई भी रास्ता नहीं है। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्री पर एक भी आरोप नहीं है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Supreme court asks Azam Khan to tender apology on his statement on Bulandsahar rape victim Next hearing on this case is on 7th Dec.
Please Wait while comments are loading...