नरेन्‍द्र मोदी भाषण में रो देते हैं और जनता तरस खा जाती है: नसीमुद्दीन सिद्दीकी

नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने जमकर कांग्रेस बीजेपी और सपा पर हमला बोला। उनका कहना था कि बीजेपी और कांग्रेस ने आरक्षण खत्म करने की साजिश की।

Subscribe to Oneindia Hindi

शाहजहांपुर। यूपी में चुनाव नजदीक आते ही सभी पार्टियों ने जनता के करीब जाने की शुरुआत कर दी है। आज शाहजहांपुर के खिरनीबाग मैदान में बीएसपी पार्टी का समाजिक कार्यकर्ता सम्मेलन हुआ जिसमे बीएसपी नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने एक जनसभा को संबोधित किया। नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने जमकर कांग्रेस बीजेपी और सपा पर हमला बोला। उनका कहना था कि बीजेपी और कांग्रेस ने आरक्षण खत्म करने की साजिश की। कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास 70 करोड़ रुपये कहां से आए जिससे उन्होंने कपड़े पहने। कहा कि जनता मोदी से बहुत नाराज हैं लेकिन मोदी जबसे प्रधानमंत्री बने हैं तब से अभी तक भाषण के दौरान सात बार रो चुके हैं इसलिए उनका रोना देखकर जनता को तरस आ जाता है।

नरेन्‍द्र मोदी भाषण में रो देते हैं और जनता तरस खा जाती है: नसीमुद्दीन सिद्दीकी

वहीं कांग्रेस पर बोलते हुए कहा कि उन्होंने ने भी एमरजेंसी लगाई थी नसबंदी को लेकर वो भी कहते थे कि 90 पर्सेन्ट जनता उनके साथ है लेकिन बाद में सब पता चला गया था कि जनता किसके साथ थी। सपा पर बोलते हुए कहा कि आज सपा में चाचा भतीजे आपस में लड़ रहे हैं जनता को वो क्या संभालेंगे। बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने ने शाहजहांपुर में समाजिक कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए जमकर बरसे कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 70 करोड़ रुपये के कपड़े पहनते हैं एक चाए वाले के पास, 70 करोड़ कहां से है ये उन्हें बताना पड़ेगा। मोदी रोज चार बार कपङे बदलते हैं चाय वाला तो चार बार कपङे नही बदल सकता आखिर पैसा आ कहा से रहा है ये मोदी को बताना पड़ेगा। यूपी चुनाव: ओवैसी ने उतारे अपने 23 प्रत्‍याशी, जानिए कौन कहां से लड़ेगा
उन्‍होंने कहा कि देश को कहां लाकर खड़ा कर दिया है। मोदी ने नोट बंद कर दिए कहा कि काला धन वापस आ जाएगा। लेकिन क्या आया। मोदी ने कहा था कि पचास दिन तक देश की बैंकों के बाहर इमानदार जनता की लाईन लगी होगी। लेकिन पचास दिन के बाद बैंक के बाहर बेईमानों की लाईन लगी होगी। लेकिन अब पचास दिन पूरे हो चुके हैं लाईन तो आज भी बैंकों के बाहर लगी है क्या ये गरीब जनता बेईमान है। जनता को बेइमान कहने का हक मोदी को किसने दिया है। कहा कि मोदी हमेशा के दलित और मुस्लिम के घोर विरोधी रहे हैं। कहा कि कांग्रेस की तरह मोदी ने भी नोटबंदी के बाद सर्वे कराया जिसमे मोदी कहते हैं जनता जनता नोटबंदी के साथ है। लेकिन आने वाले चुनाव में पता चल जाएगा कि जनता किसके साथ है।

'नरेन्‍द्र मोदी भाषण में रो देते हैं और जनता तरस खा जाती है'
 

नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा कि कांग्रेस और बीजेपी एक ही मानसिकता की पार्टियां है दोनो पार्टियों ने आरक्षण खत्म करने की साजिश की। लेकिन मायावती ने मंडल आयोग की सिफारिशें लागू कराकर आरक्षण को खत्म नहीं होने दिया। जब 1989 में जनता दल की सरकार बनी थी उस वक्त तीन एमपी बीएसपी के जीते थे। जब जनता दल को समर्थन देने की बात आई थी तब मायावती ने शर्त रखी थी कि मंडल आयोग की सिफारिशें लागू की जाएगी। जो लागू भी कर दी गई थी। लेकिन उसके बाद सरकार गिर गई थी उसके बाद बीजेपी और कांग्रेस ने आरक्षण खत्म करने की साजिश रचते रहे। उनका कहना था कि आज सपा में ऐसा विवाद चल रहा है कि लोग हंस रहे हैं। जनता सोचती है कि जब मुलायम सिंह यादव अपने परिवार को नही संभाल पा रहे हैं। चाचा भतीजे सत्ता को लेकर आपस में लङ रहे हैं तो ऐसी सरकार जनता को क्या संभालेगी। चाचा कहते हैं हम भतीजे पर भारी है तो भतीजा कहता है हम चाचा पर भारी है। उनका कहना है कि सपा ने सबसे ज्यादा दागियों को टिकट दिए हैं। इससे साफ होता है ये पार्टी दबंगो की है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
People get trapped by Narendra Modi's tears during rallies said Nasimuddin Siddiqui.
Please Wait while comments are loading...