खून से सीएम अखिलेश को लिखा खत, नौकरी ना मिलने पर दी आत्‍मदाह की धमकी

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। राजकीय औद्योगिक संस्‍थाओं में अनुदेशकों के रिक्‍त पद पर भर्ती के लिए दो वर्ष पूर्व हुई परीक्षा और और साक्षत्‍कार का परिणाम घोषित न होने से गुस्‍साए अभ्‍यर्थियों ने सोमवार को आमरण अनशन किया। लखनऊ के बांस मंडी चौराहा स्थित प्रशिक्षण एवं सेवायोजन निदेशालय पर जुटे अ‍भ्‍यर्थियों ने विभाग पर उत्‍पीड़न का आरोप लगाया।

 ITI instructor candidates wrote letter with blood to CM Akhilesh Yadav

इतना ही नहीं अथ्‍यर्थियों ने मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को खून से खत लिखा और 12 सितंबर से पहले साक्षत्‍कार का रिजल्‍ट न घोषित करने पर आत्‍मदाह की धमकी दी। जानकारी के मुताबिक जिस अभ्‍यार्थी ने खून से खत लिखा है उसका नाम श्रीकांत यादव है।

Pics: काशी में खतरे के निशान से ऊपर गंगा, छतों पर हो रहा है अंतिम संस्कार 

श्रीकांत ने कहा कि मांगी गई सूचना में यह बात सामने आई है कि प्रदेश में 261 राजकीय प्रशिक्षण संस्‍थान हैं और उनमें 4167 अनुदेशकों के पद रिक्‍त हैं। श्रीकांत का कहना है कि 7 नवंबर 2014 को विज्ञापन के माध्‍यम से 2498 पदों के लिए आवेदन मांगे गए थे।

इसके लिए 10 हजार अभ्‍यर्थियों का साक्षात्‍कार भी हुआ। लेकिन परिणाम अभी तक घोषित नहीं हुआ जिससे अभ्‍यर्थी परेशान हैं। इस मामले में मुख्यमंत्री से लेकर राज्यपाल तक को पत्र लिखे, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हो रही।

अपराध में यूपी ने देश में किया टॉप, एनसीआरबी के आंकड़ों ने खोली कानून-व्यवस्था की पोल 

उल्‍लेखनीय है कि इससे पहले 12 अगस्त को भी बुलंदशहर की दो बेटियों ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को अपने खून से पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने अपनी मां के हत्यारे पिता को सजा दिलाने की मांग की थी। जिसके बाद अखिलेश यादव उन बच्चियों से मिले और उन्हें न्याय दिलाने एवं उनकी शिक्षा के लिए पांच लाख रुपये देने की घोषणा की।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
ITI instructor candidates wrote letter with blood to CM Akhilesh Yadav.
Please Wait while comments are loading...