राहुल के रोड शो में भारी भीड़ के बीच असल वोट बैंक की हकीकत

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

लखनऊ। जिस तरह से उत्तर प्रदेश में राहुल गांधी अपने रोड शो में भारी भीड़ इकट्ठा कर रहे हैं माना जा रहा है कि कांग्रेस के लिए राहत ला सकती है। लेकिन राहुल के शो में जमा हो रही भीड़ आगामी चुनाव में कांग्रेस के लिए बतौर मतदाता बूथ पर आती है या नहीं यह सवाल अभी भी बना हुआ है। सीतापुर में रोड शो के दौरान एक व्‍यक्ति ने राहुल गांधी पर फेंका जूता

 

rahul gandhi

RSS को मात देने के लिए कांग्रेस चली भाजपा की राह पर

प्रियंका कब आएंगी

देवरिया के गौरी बाजार जहां राहुल ने अपना रोड शो किया था से जब एक फल विक्रेता से पूछा गया कि आपको राहुल के बारे में क्या कहना है तो वह कहते हैं मेरे सवालों का जवाब तो दिया नहीं। वहीं यहां के निवासी अजय कुमार से कांग्रेस की होर्डिंग में लगी प्रियंका की तस्वीर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने पूछा कि क्या यह इंदिरा हैं।

नहीं पहचानते शीला को लोग 

जब अजय कुमार को बताया कि वह इंदिरा गांधी की पोती हैं तो उन्होंने कहा कि इन्हें कभी देखा नहीं ये कब आएंगी, हालांकि उन्होंने यूपी में कांग्रेस की सीएम उम्मीदवार शीला दीक्षित को पहचानने से इनकार कर दिया।

हालांकि राहुल गांधी के लखनऊ में रोड शो के दौरान शीला दीक्षित उनके साथ मौजूद थी लेकिन देवरिया में लोग यह पूछते हैं कि आखिर शीला यहां क्यों नहीं आई थी राहुल गांधी के साथ। हर रोज राहुल गांधी औसतन 200 किलोमीटर का सफर करते हैं और कांग्रेस के लोग इस बात से खासा उत्साहित हैं।

लोगों में कांग्रेस को लेकर अभी भी संशय य

लेकिन राहुल गांधी का रोड शो खत्म होने के बाद जब लोग अपने घरों को जाते हैं तो वह अपनी छाप छोड़ने में विफल हो रहे हैं। देवरिया की चौपाल के बाद जब यहां की एक मजदूर से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अब राहुल भैया से खाट लिए हैं तो वोट के बारे में सोचेंगे, लेकिन बहन जी सबसे आगे हैं। यहां 6 सितंबर को हुई खाट सभा में से कई लोग खाट लेकर आए थे कुछ एक तो कुछ कई खाटें लेकर आए थे।

सपा-बसपा अभी भी अहम दल 

यहां रहने वाले अखिलेश का कहना है कि वह कांग्रेस का ही झंडा अपने घर पर लगाते आ रहे हैं और हम इंदिराजी के समय से कांग्रेस को वोट देते आ रहे हैं, राहुल भैया ने खटिया के रूप में एक अच्छा तोहफा दिया है। लेकिन जब उनसे पूछा गया कि क्या वह इस बार कांग्रेस को वोट देंगे तो उन्होंने कहा कि मेरे एक वोट से क्या होगा जब लोग सपा और बसपा के बीच में ही बंटे हुए हैं।

राहुल को लोग देश में नहीं पूछ रहे हैं

कई ग्रामीणों ने इस बात से भी काफी नाराजगी दिखाई कि कई भाजपा नेताओं ने उन्हें खाट चोरी करने वाला बताया।

गोरखपुर में राहुल के रोड शो के बाद दो हफ्ते बाद यहां के भोला कृष्ण का कहना है कि राहुल को गोरखपुर में क्या पूरे देश में कोई नहीं पूछ रहा है। वह यहां के मुख्यमंत्री के पद पर उतरने के लायक भी नहीं है ऐसे में यूपी में कांग्रेस का कुछ हो पाना मुश्किल है।

युवा मोदीजी के साथ

दुकान में मौजूद एक जोड़ा कहता है कि युवा देश मोदीजी के साथ हैं, उन्होंने एम्स की नींव रखी, लेकिन कांग्रेस ने हमारे लिए क्या किया। वहीं जिस सुनीता देवी के घर राहुल गांधी गए थे उन्होंने अभी तक इस बात का फैसला नहीं लिया है कि वह किसे वोट देंगी। वह कहती है कि सपा के राज में गुंडाराज है, बहनजी भी ठीक ही हैं।

अखिलेश के हाथ में नहीं है सत्ता

कांग्रेस के नेता कहते हैं कि अखिलेश युवा और साफ छवि के हैं, लेकिन अब यह साफ हो चुका है कि वास्तविक सत्ता उनके हाथ में नहीं है। 2012 मे चुनाव अखिलेश व राहुल के बीच था लेकिन लोगों में अखिलेश को लेकर उत्साह था जो अब खत्म हो चुका है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Is road show of Rahul Gandhi really successful in Uttar PRadesh. Despite the huge crowd people are not turning in the favour of congress.
Please Wait while comments are loading...