अखलाक हत्याकांड के आरोपी की मृत्यु के बाद बढ़ा तनाव, मांगा एक करोड़ का मुआवजा

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

बिसाड़ा। दादरी में अखलाक की मौत के बाद पुलिस ने कई आरोपियों को इस मामले में गिरफ्तार किया था, लेकिन जिस तरह से पुलिस कस्टडी में एक आरोपी की मौत हुई है उसने एक बार फिर से बिसाड़ा का माहौल तनावग्रस्त कर दिया है।

rovin

रिपोर्ट: रोहित वेमुला ने मर्जी से की थी खुदकुशी, नहीं थे दलित

अखलाक के परिजनों को जो मिला उसकी मांग

रॉविन की मृत्यु के बाद लोगों ने उसके शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। लोग जेलर व अखलाक के भाई के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। इसके साथ ही एक करोड़ रुपए का मुआवजा व रॉविन की पत्नी को सरकारी नौकरी दिए जाने की भी लोग मांग कर रहे है।

केजरीवाल,चिदंबरम और निरुपम पर चलेगा राजद्रोह का केस?

आरोपियों को मेडिकल सुविधा की मांग

स्थानीय लोगों ने अन्य आरोपियों के लिए मेडिकल सुविधा मुहैया कराए जाने की भी मांग की है। लोगों ने यह सभी मांगें अखलाक के परिवार के आधार पर की है, अखलाक के परिवार को भी एक करोड़ रुपए का मुआवजा, सरकारी नौकरी आदि सरकार की ओर से दी गई थी।

अतिरिक्त फोर्स तैनात

लोग पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए सड़कों पर उतर आए हैं, मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने यहां चौकसी बढ़ा दी गई है। इसके साथ ही अतिरिक्त फोर्स की भी तैनाती की गई है।

अखलाक की हत्या के मामले मे 21 वर्ष के रॉविन की पुलिस हिरासत में मौत हो गई थी। रॉविन की मौत के एक बार फिर से बिसाड़ा के हालात एक साल पहले जैसे हो गए हैं, यहां मंदिर, मस्जिद पर भारी सुरक्षा तैनात की गई है।

पिता ने जताई अन्य आरोपियों की हत्या की आशंका

रॉविन के पिता ने आरोप लगाया है कि मेरे बेटे की पीट-पीटकर हत्या की गई है। उन्होंने कहा कि अन्य आरोपियों के साथ भी यह होगा। बहरहाल अभी भी यहां के हालात नाजुक बने हुए हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
One of the Dadri lynching accused, Ravin, dies in police custody; villagers refuse to cremate body.
Please Wait while comments are loading...