राजस्‍थान एजुकेशन बोर्ड की गलती ने बर्बाद कर दिया छात्रा का 'भविष्‍य'!

बारहवीं कक्षा की एक छात्रा को एक लाख रुपये के इनाम से वंचित रहने के सा‍थ ही स्‍नातक के लिए मनमाना विषय चुन पाने से भी महरूम रहना पड़ा।

Subscribe to Oneindia Hindi

जयपुर। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कॉपी चेकिंग में गलती का खामियाजा कक्षा 12 की एक स्टूडेंट को भुगतना पड़ा है।

एजुकेशन बोर्ड की गलती ने बर्बाद कर दिया छात्रा का 'भविष्‍य'! जयपुर। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कॉपी चेकिंग में गलती का खामियाजा कक्षा 12 की एक स्टूडेंट को भुगतना पड़ा है। बारहवीं कक्षा की एक छात्रा को एक लाख रुपये के इनाम से वंचित रहने के सा‍थ ही मनमाना विषय चुन पाने से भी महरूम रहना पड़ा। दरअसल, प्रियंंका शर्मा टोंक जिले में स्थिति मालपुरा के एक सरकारी स्‍कूल में पढ़ती हैं। पढ़ाई में अव्‍वल रहने वाली प्रियंका ने हाल ही 12वीं की परीक्षा दी। उनकों राजनीतिक विज्ञान को छोड़कर हर एक विषय में 90 पर्सेंट मार्क्‍स मिले हैं। राजनीतिक विज्ञान में महज 27 अंक देखकर प्रियंका चौंक गईं। भूगोल में 99, हिंंदी में 97 और अंग्रेजी में उनको 95 मार्क्‍स मिले। प्रियंंका को इसके बाद कंफर्म हो गया कि जरूर कॉपी चेकिंग में कुछ गड़बड़ हुई है। उन्‍होंने दोबारा कॉपी चेकिंग के लिए आवेदन कर दिया। इसके बाद जब नतीजा आया तो चह चौंकाने वाला था क्‍योंकि प्रियंका मेरिट लिस्‍ट में चौथे नंबर पर आ गईं। परीक्षा परिणाम की देरी की वजह से प्रियंका राजस्‍थान माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड, राज्‍य सरकार समेत कई अन्‍य संस्‍थाओं के छात्र सम्‍मान पुरस्‍कारों से वंचित रह गईं। बोर्ड की इस लापरवाही से खफा प्रियंका शर्मा ने कहा कि अगर उनका सही वक्‍त पर सही रिजल्‍ट आ जाता तो वह स्‍नातक में मनचाहे विषय से एडमिशन ले सकती थीं। प्रियंका ने मनचाहे विषय से दाखिले और सभी पुरस्‍कारों की मांग की है।

बारहवीं कक्षा की एक छात्रा को एक लाख रुपये के इनाम से वंचित रहने के सा‍थ ही स्‍नातक के लिए मनमाना विषय चुन पाने से भी महरूम रहना पड़ा।

दरअसल, प्रियंंका शर्मा टोंक जिले में स्थिति मालपुरा के एक सरकारी स्‍कूल में पढ़ती हैं। पढ़ाई में अव्‍वल रहने वाली प्रियंका ने हाल ही 12वीं की परीक्षा दी। उनकों राजनीतिक विज्ञान को छोड़कर हर एक विषय में 90 पर्सेंट मार्क्‍स मिले हैं।

इस केंद्रीय मंत्री ने बीमार मां और बेटी की खातिर छोड़ दी विमान में अपनी आरामदेह सीट

राजनीतिक विज्ञान में महज 27 अंक देखकर प्रियंका चौंक गईं। भूगोल में 99, हिंंदी में 97 और अंग्रेजी में उनको 95 मार्क्‍स मिले। प्रियंंका को इसके बाद कंफर्म हो गया कि जरूर कॉपी चेकिंग में कुछ गड़बड़ हुई है। उन्‍होंने दोबारा कॉपी चेकिंग के लिए आवेदन कर दिया।

इसके बाद जब नतीजा आया तो चह चौंकाने वाला था क्‍योंकि प्रियंका मेरिट लिस्‍ट में चौथे नंबर पर आ गईं। परीक्षा परिणाम की देरी की वजह से प्रियंका राजस्‍थान माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड, राज्‍य सरकार समेत कई अन्‍य संस्‍थाओं के छात्र सम्‍मान पुरस्‍कारों से वंचित रह गईं।

बोर्ड की इस लापरवाही से खफा प्रियंका शर्मा ने कहा कि अगर उनका सही वक्‍त पर सही रिजल्‍ट आ जाता तो वह स्‍नातक में मनचाहे विषय से एडमिशन ले सकती थीं। प्रियंका ने मनचाहे विषय से दाखिले और सभी पुरस्‍कारों की मांग की है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
rajasthan education board mistake ruins 12th class girl student future into dark.
Please Wait while comments are loading...