वर्चुअल किडनैपिंग: पैसे ठगने का नया तरीका, आप भी रहें सावधान

Subscribe to Oneindia Hindi

लीसबर्ग। लोगों को ठगने के लिए अपराधी आए दिन नए-नए तरीके खोजते रहते हैं। एक ऐसा ही तरीका सामने आया है कि वर्जीनिया के लीसबर्ग से। यहां पर शातिर बदमाश ने मुलर नाम की एक महिला की बेटी को अगवा कर लिया...!

scam

आपको जानकर हैरानी होगी कि उनकी बेटी वास्तव में अगवा नहीं हुई थी, लेकिन जिस तरह से परिस्थितियां बनीं, मुलर को यकीन हो गया कि उनकी बेटी अगवा हो गई है। इसी चक्कर में वह 5 घंटे तक इधर से उधर भागती रहीं। ये 5 घंटे उनके लिए नरक जैसे बन गए।

शराब पीकर गाड़ी चला रहा था 'संस्कारी बाबूजी' आलोक नाथ का बेटा, पुलिस ने सीज की कार

तुम्हारी बेटी हमारे पास है

अपराधियों ने मुलर को फोन किया और कहा कि आपकी बेटी हमारे पास है। उन्होंने एक लड़की के चिल्लाने की आवाज भी सुनाई, जो मुलर को उनकी अपनी बेटी की तरह ही लगी। मुलर की बेटी घर से दूर रह कर पढ़ाई करती है, इसलिए भी वह काफी घबरा गईं।

इसके बाद शातिर बदमाशों ने मुलर से पूछा कि वो अपनी बेटी की जिंदगी बचाने के लिए कितने रुपए दे सकती हैं? मुलर ने बताया कि वह अपनी बेटी की जान बचाने के लिए 10 हजार पाउंड दे सकती हैं। अपराधी उनकी इस बात पर राजी हो गए।

जानिए भारत-पाक के बीच मौजूद एलओसी और बॉर्डर में क्‍या अंतर है?

उन्होंने मुलर से लगातार फोन पर जुड़े रहने को कहा और धमकी दी कि अगर किसी को बताया तो वह उनकी बेटी को जान से मार देंगे। मुलर काफी डर गईं और जैसे-जैसे वह कहते गए, मुलर उस तरह से अपराधियों को पैसे भेजती रहीं।

9,100 पाउंड का लगा चूना

इसी तरह से पैसे भेजते-भेजते मुलर ने शातिर बदमाशों को करीब 9,100 पाउंड भेज दिए। तभी उनके पास उनकी बेटी का एक मैसेज आया, जिसमें लिखा था- देखो मैंने आज कॉलेज में कैसे प्रोजेक्ट बनाया।

अरविंद केजरीवाल पर BJP ने साधा निशाना, पूछा आर्मी पर यकीन या सर्जिकल स्‍ट्राइक पर शक?

मैसेज देखते ही मुलर इस सोच में पड़ गईं कि आखिर ये क्या है? कुछ देर में जब उन्हें इस बात का यकीन हो गया कि उनकी बेटी सही सलामत है और किसी ने भी उसे अगवा नहीं किया है तो उन्होंने फोन काट दिया, लेकिन तब तक शातिर बदमाश उनसे 9,100 पाउंड ले चुके थे।

पुलिस ने बताई सच्चाई

जब बाद में मुलर ने इस बारे में पुलिस को सूचना दी तो उन्होंने कहा कि इस तरह के कई गैंग हैं जो वर्चुअल किडनैपिंग का काम करते हैं। ये लोग जनता को फोन करते हैं और उनके किसी चाहने वाले के अगवा किए जाने की बात कहते हैं, जबकि वास्तव में ऐसा कुछ नहीं होता है।

डरी पाकिस्तानी लड़कियों से बोलीं सुषमा स्वराज, बेटियां तो सबकी सांझी होती हैं

पुलिस के अनुसार कुछ लोग पहले से अपने टारगेट के बारे में जानकारी जुटा कर ऐसा करते हैं, जबकि कुछ यूं ही लगातार फोन करते रहते हैं और जो फंस जाता है उससे पैसे ऐंठ लेते हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
virtual kidnapping is being used by scammers
Please Wait while comments are loading...