अमेरिका देगा भारत को आसमानी 'हथियार', पाकिस्तान परेशान

By:
Subscribe to Oneindia Hindi

वाशिंगटन। अमेरिका, भारत को उच्‍च तकनीक से लैस गार्डियन ड्रोन की सप्‍लाई कर सकता है। इन ड्रोन का अनुरोध भारत की ओर से किया गया था ताकि हिंद महासागर में दुश्‍मन की हर गतिविधि पर नर रखी जा। वहीं पााकिस्‍तान की लॉबी इस डील को फेल करने के लिए सक्रिय हो चुकी है। 

us-to-give-guradian-drones-to-india.jpg

इंडियन नेवी ने की थी रिक्‍वेस्‍ट

जून की शुरुआत में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा की व्‍हाइट हाउस में मुलाकात हुई थी।

उससे पहले फरवरी में इंडियन नेवी ने अमेरिकी विभाग को एक ऑफिशियल लेटर ऑफ रिक्‍वेस्‍ट यानी (एलओआर) भेजा था। एलओआर में इंडियन नेवी ने पेंटागन के 22 हाइटेक मल्‍टी-मिशन गार्डियन ड्रोन की मांग की थी।

पढ़ें-अमेरिका ने पाक से कहा 26/11 मामले में हो जल्‍द इंसाफ

दो बिलियन डॉलर की डील

सूत्रों के मुताबिक भारत और अमेरिका के बीच यह डील दो बिलियन डॉलर के आसपास की है। इस डील को अमेरिका और भारत के बीच एक अहम पड़ाव माना जा रहा है। इसके अलावा यह डील अमेरिका में नौ‍कारियों के कई अवसर भी लेकर आएगी।

पढ़ें-दो वर्षों से पाक पर हमला बोलते पीएम नरेंद्र मोदी

भारत को बताया बड़ा साझीदार

अमेरिका की ओर से भारत को बड़ा रक्षा साझीदार करार देने के बाद भारत की ओर से अमेरिका को भेजी गई यह पहला सबसे बड़ा अनुरोध था।

हालांकि अमेरिका ने अब तक इस पर कोई औपचारिक फैसला नहीं लिया है लेकिन भारत के अनुरोध के बाद एक प्रक्रिया शुरू हो गई है।

पढ़ें-भारत और अमेरिका के बीच यह समझौता उड़ाएगा पाक की नींद

मजबूत होंगे रिश्‍ते

सूत्रों की मानें तो ओबामा एडमिनिस्‍ट्रेशन का मानना है कि इन ड्रोन की बिक्री भारत और अमेरिका के बीच रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाएगी। साथ ही दोनों देशों की सेनाओं के बीच एक नए आयाम की शुरुआत होगी।

राष्‍ट्रपति ओबामा भी मानते हैं किन सिर्फ भारत के लिए बल्कि एशिया-पैसेफिक क्षेत्र में दोनों देशों के संबंधों का मजबूत होना काफी अहम है।

पढ़ें-भारत-अमेरिका के बीच व्‍यापार ने तोड़ दिए सारे रिकॉर्ड्स

अमेरिका के भी हित

अधिकारियों का मानना है कि गार्डियन की बिक्री न सिर्फ भारत के मैरीटाइम सर्विलांस क्षमताओं को बढ़ाएगी बल्कि अमेरिका के लिए एशिया में काफी कारगर साबित होगी।

रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर पिछले हफ्ते अमेरिका में थे और 29 अगस्‍त को उन्‍होंने पेंटागन में अमेरिकी रक्षा सचिव एश्‍टन कार्टर से भी मुलाकात की थी। इस मुलाकात में दोनों के बीच इस ड्रोन की बिक्री पर भी चर्चा हुई।

पढे़ं-आतंकियों की पनाहगाह बनने पर अमेरिका ने लगाई पाक को लताड़

पाक अड़ंगा डालने की तैयारी में

वहीं कुछ सूत्रों की ओर से जो जानकारी आई है उसमें साफ है कि पाकिस्‍तान की लॉबी इस डील को असफल करने के लिए सक्रिय हो गई है।

पाक की ओर से पूरी कोशिश की जा रही है कि अमेरिका किसी तरह से इस डील को फाइनल न करे। साथ ही वह यह कहकर अमेरिका को कनफ्यूज करने की कोशिश कर रहा है कि यह ड्रोन भारत, पाक के खिलाफ प्रयोग कर सकता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
According to officials US to make secure sale of Guardian drones to India. India has made a request to US for this drone.
Please Wait while comments are loading...